आक्रोशित ग्रामीणों ने दी सेंट्रल को-ऑपरेटिव बैंक के शटर बंद कर किया उग्र आंदोलन

आक्रोशित ग्रामीणों ने दी सेंट्रल को-ऑपरेटिव बैंक के शटर बंद कर किया उग्र आंदोलन
Spread the love

बैंक एमडी ने अगले सोमवार से ब्रांच फतेहगढ़ को 30 लाख रुपये दिलाने का भरोसा दिलाया

फतेहगढ़

जैसलमेर जिले की दी सेंट्रल को- ऑपरेटिव बैंक की ब्रांच फतेहगढ़ में किसानों को पैसे नही मिलने पर परेशान होकर आज ग्रामीणों ने बैंक के शटर बंद किये। उसके बाद सांगड थाना के पुलिस कर्मी जाब्ते के आने के बाद ग्रामीणों से समझाईस करने के बाद बैंक के शटर खोले गए। बैंक कर्मचारियों द्वारा आश्वस्त किया गया की अगले सोमवार से बैंक की राशि मे इजाफा किया जाएगा। तकरीबन 30 जनों को दो हजार की राशि देने के बाद बैंक का सर्वर काम करना बंद कर दिया। उसके बाद सभी को डायरियाँ वापस लौटा दी और अगले सोमवार को आने का बोला गया।ग्रामीणों ने बताया कि हमारे प्रधानमंत्री आवास योजना व पेंशन, मनरेगा सहित अन्य पैसे जमा हो रखे है। किसानों ने उपखण्ड अधिकारी को फोन करके बैंक में जमा पैसे दिलाने की मांग की। विगत एक साल से यह समस्या चल रही है।बैंक कर्मचारियों द्वारा हर बार पैसे की कमी का हवाला देकर इतिश्री कर दी जाती है। ब्रांच फतेहगढ़ के कर्मचारियों का कहना है हमे सप्ताह में अधिकतम 02लाख रुपये दिए जाते है। जिन्हें हमें सभी ग्राहकों को बराबर राशि 2000 देने पड़ते है। विगत 15 दिन में मात्र 05 लाख रुपये दिए है हमे ग्रामीणों से बहुत कुछ सुनाया जाता है।बैंक अधिकारी इससे सुधार करें। ग्रामीणों का कहना है कि हमारे द्वारा कॉपरेटिव बैंक फतेहगढ़ में पैसे नही होने की शिकायत कई बार की है। पूर्व जिला कलक्टर टीना डाबी,बैंक के एमडी, पूर्व उपखण्ड अधिकारी फतेहगढ़, तहसीलदार फतेहगढ़ ओर अभी वर्तमान समस्त प्रशासन को भी ज्ञापन दे दिए है। मगर अभी तक इसका कोई ठोस समाधान नही हो रहा है। पहले किसानो को 5000 राशि मिलती थी अब 2000 की राशि मे संतुष्ट होना पड़ता है। उसमें भी पूरे दिन परेशान होकर आना जाना रुकना हम गरीब परिवार के लिए बहुत मुसीबत है। लेकिन हमारी समस्या का कोई निराकरण नही करने वाला है।

 

प्रधानमंत्री आवास योजना की किश्ते बैंक में जमा, इधर ग्राम पंचायत दे रही नोटिस

प्रधानमंत्री आवास योजना के पैसे कॉपरेटिव बैंक में जमा हो गए है। अब ग्राम पंचायत के ग्राम विकास अधिकारी व सरपंच लाभार्थियों को समय पर आवास पूर्ण करने के लिए दबाव बना रहे है। आवास समय पर नही बनाने पर उनके खिलाफ नोटिश जारी कर रहे है। लेकिन अब कॉपरेटिव बैंक द्वारा दो हजार से अधिक राशि नही दे रहे है तो लाभार्थियों का कहना है कि आवास 2000 की राशि मे कैसे बनाना शुरू करें। गाँव से उपखण्ड मुख्यालय आने जाने के किराए में पूरे।हो जाते है। बाकी पूरे दिन भूखे प्यासे बैंक के आगे भटकते रहते है जिससे ग्रामीणों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

 

इनका कहना

किसान जब भी फतेहगढ़ स्थित दी सेंट्रल कॉपरेटिव बैंक जाता तो उन्हें उनके ही खाते में जमा राशि नही दी जाती है। कभी पैसे नही होने का हवाला तो कभी बैंक सर्वर नही चलने का तो कभी सोमवार को मात्र 2 हजार रुपये तक का ही पेमेंट किया जाता है। पहले 5 हजार देते थे अब उससे कम करके 2 हजार कर दिए।

खुमाण सिंह खालत रणधा, किसान

 

ग्रामीणों ने बैंक के शटर बंद करके किया प्रदर्शन

ग्रामीणों द्वारा परेशान होकर बैंक के शटर बंद करके विरोध प्रदर्शन किया।एसडीएम ने बैंक एमडी को फोन किया उन्होंने एसडीएम के आगे वही राग अलाप सुनाया जो हर बार किसानों द्वारा ज्ञापन देने के सुनाया जाता है। फिर आखिर में 05 लाख रुपये जैसलमेर से भेजे। इनका अगले हप्ते तक 30 लाख रुपये दिलाकर राशि मे इजाफा करके राहत दिलाने का आश्वासन दिया। न ही 2 हजार से अधिक राशि आगे बढ़ाकर देना शुरू किया। हालांकि एसडीएम ने बैंक कर्मचारियों को फटकार लगाते हुए जल्द समाधान निकालने के निर्देश दिए। ग्रामीणों ने बीजेपी स्थानीय नेता शेमभुदान भेलानी जिसने बैंक के आगे धरना प्रदर्शन में शामिल होकर सोमवार को ग्रामीणों को आश्वस्त किया था जो आज उनके फोन कट करने पर शेमभुदान के मुर्दाबाद के नारे लगें वही जैसलमेर विधायक को भी ग्रामीणों ने फोन किया कोई सुनवाई नही होने से निराश हुवे।

 

संविदा कर्मियों की 8 माह से अटकी तनख्वाह

सविंदा वाले कर्मचारी ब्रांच फतेहगढ़ चला रहे है। एमडी जगदीश सुथार हर महीने आश्वासन दे रहे हैं मगर अभी तक उन्हें एक महीने का भुगतान नही हुवा है।सविंदा पर कार्यरत कर्मचारियों ने कई बार एमडी को अवगत करवाया मगर कोई समाधान नही हुवा। सविंदा वाले कर्मचारियों का कहना है कि हमारा परिवार चलाना मुश्किल हो गया है। बड़ी मुश्किल से कॉपरेटिव बैंक आ रहे हैं। सविंदा पे लगे कर्मचारियों का कहना है कि हमारी सेलेरी जल्द देवे।

संपादक: भवानी सिंह राठौड़ (फूलन)

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!