मनमानी पार्किंग, ट्रैफिक पुलिस की व्यवस्था नही,नो पार्किंग के बोट की दुर्दशा, आए दिन होते हैं हादसे

मनमानी पार्किंग, ट्रैफिक पुलिस की व्यवस्था नही,नो पार्किंग के बोट की दुर्दशा, आए दिन होते हैं हादसे
Spread the love

 जिम्मेदार आँखे मूंदकर देख रहे हैं तमाशा

सिवाना

कस्बे के नेशनल हाईवे 325 पर आबादी क्षेत्र में गाँधीचोक सर्किल पर सड़क किनारे सब्जी मंडी में वाहनों की बिगड़ी पार्किंग व्यवस्था से जहाँ एक ओर यातायात व्यवस्था बिगड़ती जा रही हैं। वही दूसरी ओर आमजन का पैदल चलना भी दुश्वार बना हुआ है। इसमें सब्जी विक्रेताओं द्वारा सड़क पर डाली जाने वाली सड़ी गली सब्जियों को खाने के लिए विचरण करते बेसहारा पशु आग में घी का काम कर रहे हैं। जिससे आए दिन लोग दुर्घटना के शिकार हो रहे हैं।

 

जिम्मेदार आँखे मूंदकर देख रहे हैं तमाशा

 इधर नगरपालिका से लेकर पुलिस प्रशासन आँखे मूंदकर अपनी जिम्मेदारी से भाग रहे हैं। कस्बे की यातायात व्यवस्था रामभरोसे चल रही हैं। स्थानीय जनता के चुने हुए जनप्रतिनिधियों में अब वो दम नही रहा कि इन जिम्मेदार विभागों के अधिकारी को जिम्मेदारी निभाने का कह सके। जबकि गाँधीचोक पर पिछले तीन दशक से लगातार पुलिस प्रशासन की ओर से एक जवान की तैनाती की जाती थी। पिछले तीन साल से उक्त व्यवस्था बन्द कर यातायात व्यवस्था को रामभरोसे छोड़ दिया है। जबकि अब तो पुलिस सेवा का विस्तार भी हो चुका है। सीआई व डिप्टी का पद सृजित हो चुका है। पुलिस द्वारा पिछले सात साल पूर्व लगाए गए गाँधीचोक मोकलसर रोड बालोतरा रोड पर नो पार्किंग जॉन के संकेत बोर्डो को वाहन चालकों ने टक्कर मार मार कर कुबे कर दिए हैं। इधर नगरपालिका प्रशासन गाँधीचोक, बालोतरा रोड, मोकलसर रोड पर हाइवे पर दुकानों के आगे पांच से दस फिट तक अस्थाई अतिक्रमण को हटाने व सड़क को जाम करके खड़े खोमचों, इत्यादि अतिक्रमण हटाने की कोई कार्यवाही नही कर रहा है। उक्त समस्या को लेकर जब क्षेत्र व कस्बे के चुने हुए जनप्रतिनिधि आवाज नही उठाते हैं तो फिर ब्लॉक स्तरीय अधिकारियों की बैठक में उप कलक्टर भी नगरपालिका के अधिकारी को उक्त समस्या के बारे में कुछ नही कह पाते है। 

 

 

संपादक: भवानी सिंह राठौड़ (फूलन)

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!