बीएसएनएल ने अटकाया ऑनलाइन कार्य में रोड़ा

बीएसएनएल ने अटकाया ऑनलाइन कार्य में रोड़ा
Spread the love

5 माह से टूटी पड़ी बीएसएनएल केबल की विभाग नही ले रहा सुध

ईमित्र प्लस मशीन पड़ी ठप, ग्रामीण लगा रहे आधार केंद्र का गोता

मायलावास

उपखंड क्षेत्र के मायलावास गांव में पिछले 5-6 माह से बीएसएनएल ब्रॉडबैंड सेवा बिल्कुल ठप्प है। उपभोक्ताओं को इंटरनेट नहीं चल पाने से भारी असुविधाओं का सामना करना पड़ रहा है। जिससे न केवल प्रधानमंत्री का डिजिटलाइजेशन का सपना टूट रहा है बल्कि देश की सबसे बड़ी दूरसंचार सेवा ठप्प होने की दिशा में बढ़ रही है। ऐसे में अगर यही हाल रहा तो बीएसएनएल के लिए निजी दूरसंचार एवं इंटरनेट सेवा देने वाली कम्पनियों का मुकाबला करना तो दूर ग्राहकों के लाले पड़ सकते हैं। स्थिति तो यह है कि विभाग के कार्मिक ही कहीं नजर नही आ रहे हैं तो अधिकारी उपभोक्ताओं की परेशानी सुनने को तैयार ही नहीं हैं। पिछले तीन दिनों से ब्रोडबेंड तो बिल्कुल ठप्प है। उपभोक्ताओं का कहना है कि आज के समय में इंटरनेट के बिना कोई काम हो ही नहीं सकता है। अनेकों काम इंटरनेट के द्वारा किए जाते हैं। लेकिन बीएसएनएल का यही हाल रहा तो नरेंद्र मोदी जी के इंडिया डिजिटलाइजेशन का सपना कभी पूरा नहीं हो सकता।

 

नकारा साबित हो रही ईमित्र प्लस मशीन

केबल टूट जाने से कही ऑनलाइन कार्य अटके पड़े हैं यहाँ तक कि ग्राम पंचायत में रखी ईमित्र प्लस मशीन भी नकारा साबित हो रही हैं, क्योंकि सरकार ने इस उद्देश्य के साथ ग्राम पंचायतों में वीसी सहित अनेक कार्य किए जा सकें लेकिन कनेक्शन नही मिलने से वीसी तक नही हो पा रही हैं वहीं ग्राम पंचायत का कार्य भी निजी दूरसंचार सेवाओं से पूरी करनी पड़ रही हैं।

 

आधार का काम अटका

यही नही केबल टूटने से आधार का काम भी अटका पड़ा हैं, ग्रामीण बड़ी उम्मीद लेकर आधार केंद्र तो पंहुच रहे हैं लेकिन केबल टूट जाने की वजह लोगों के आधार के काम अटक रहे हैं जबकि आधार कार्ड आज हर भारतीय की पहचान हैं। लोगों ने बताया कि किराया खर्च करके केंद्र पंहुचते हैं लेकिन केबल टूट जाने की वजह से आधार कार्ड नही बन रहे हैं, बैरंग घर लौटना पड़ रहा हैं या अन्य केंद्र का सहारा लेना पड़ रहा हैं इससे दोहरी मार झेलनी पड़ रही हैं।

 

क्या कहता हैं विभाग

मामले को लेकर संवाददाता ने बीएसएनएल के कार्मिकों से बात की तो उन्होंने बताया की हमारी सेवाएं सुचारू रूप से चल रही थी, लेकिन यहां जल जीवन मिशन योजना के तहत जब पाइपलाइन बिछाई गई तब लापरवाही पूर्वक खुदाई करने के दौरान केबल टूटी हैं। जिससे सेवाएं ठप हुई पड़ी हैं। इस पर विभाग का कहना हैं कि क्षतिग्रस्त केबल जोड़ने का काम चल रहा हैं, मार्च तक सभी टूटे केबल जोड़ दिए जाएंगे।

 

इनका कहना

गांव में पिछले 5-6 माह से बीएसएनएल की केबल टूटी हुई हैं, इससे आधार का काम अटका पड़ा हैं, वहीं ग्राम पंचायत में रखी ईमित्र प्लस से वीसी नही हो पा रही हैं, इस बारे में कई बार विभाग को अवगत करवाने के बावजूद कोई सुनवाई नही हो रही हैं। निजी दूरसंचार सेवाओं के माध्यम से जरूरी कार्य निपटाने पड़ रहे हैं।

छगन माली, ईमित्र संचालक

संपादक: भवानी सिंह राठौड़ (फूलन)

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!