फिजूलखर्ची त्याग कर दिव्यांग व मानसिक बच्चों के साथ मनाया जन्मदिन।

फिजूलखर्ची त्याग कर दिव्यांग व मानसिक बच्चों के साथ मनाया जन्मदिन।
Spread the love

जसो

कस्बे के विद्याश्रम पुनर्वास केंद्र जसोल संचालित विशेष योग्यजन कल्याण एवम विकास संस्थान बालोतरा द्वारा संचालित आवासीय विद्यालय में समाजसेवी गुमानसिंह पटाऊ व शक्तिसिंह ब्यावर ने फिजूलखर्ची त्यागकर अपना जन्मदिन दिव्यांग व मानसिक बच्चों को फल, बिस्किट व राशन किट वितरण कर सादगी से मनाया। साथ ही दिव्यांग व मानसिक बच्चों के लिए जरूरत के हिसाब से सहयोग करने का भरोसा दिलाया। समाजसेवी गुमानसिंह पटाऊ ने बताया कि दिव्यांग व मानसिक बच्चों के साथ बिताये ये पल जीवन के सबसे ख़ास रहेंगा। वो कुछ ऐसी ही जगहों पर आकर मन को सच्चा सन्तोष मिलता है। सामाजिक कार्यों में हमेशा अग्रणी भूमिका निभाने वाले भाई नरपतसिंह उमरलाई का बहुत बहुत आभार जताते हुए कहा कि जिन्होंने मुझे इस मुहिम के लिए प्रेरित किया और मुझे यह सौभाग्य नसीब हुआ। सामाजिक कार्यकर्ता नरपतसिंह उमरलाई ने बताया कि हम सबको फिजूल खर्चे को न करके दिव्यांग व मानसिक बच्चों के लिए ऐसे ऐतिहासिक और अनूठे आयोजन की शुरुआत करें। जिसमें ईश्वर रूपी दिव्यांग व मानसिक बच्चों के साथ कुछ समय बिताकर कर अपने आपको शौभाग्य शाली समझ सके। मानसिक रूप से अथवा शारीरिक रूप से विकलाग बच्चे भी समाज का महत्वपूर्ण अंग हैं जिनकी देखभाल का दायित्व परम पिता परमात्मा ने हमें दिया है। हमारी जिम्मेवारी है कि हम इन विशेष आवश्यकता वाले बच्चों को सभी जरूरी सुविधाएं प्राप्त करने का अधिकार प्रदान करे। हम सबका यह प्रयास ज़रूर सभी का हौसला बढ़ाएंगा। इस दौरान विद्यालय के सदस्य महेंद्रसिंह बामरला, गोमादेवी आदि मौजूद रहे। विद्यालय संस्थापक गौतम प्रजापत ने सभी भामाशाहों का आभार जताया। उन्होंने भामाशाहों से विशेष अपील की है कि इन दिव्यांग व मानसिक बच्चों के लिए आगे आकर नई पहल की शुरुआत करें।

संपादक: भवानी सिंह राठौड़ (फूलन)

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!