एईएन-जेईएन की मनमानी का दंश झेल रहे उपभोक्ता, डिमांड राशि भरे पांच माह बीतने के बाद भी उपभोक्ता का नही जोड़ा कनेक्शन

एईएन-जेईएन की मनमानी का दंश झेल रहे उपभोक्ता, डिमांड राशि भरे पांच माह बीतने के बाद भी उपभोक्ता का नही जोड़ा कनेक्शन
Spread the love

एईएन साहब नाम बताने को तैयार नही तो जेईएन साहब कॉल रिसीव करने की नही उठा रहे जहमत

मायलावास

सिवाना डिस्कॉम के लापरवाह अधिकारियों की वजह से घरेलू व कृषि बिजली कनेक्शन की डिमांड राशि जमा कराने के पांच माह बाद भी उपभोक्ताओं को बिजली विभाग द्वारा कनेक्शन नहीं दिया जा रहा है। जबकि डिमांड राशि भरने के 15 दिवस के भीतर विभाग को विद्युत सप्लाई देनी होती हैं। लेकिन यहां डिमांड राशि भरे पांच महीने से ज्यादा का समय बीत गया मगर अभी तक कनेक्शन नहीं जोड़ा गया हैं। डिमांड राशि जमा होने पर भी कनेक्शन नहीं देने के सिवाना क्षेत्र में ऐसे कई मामले सामने आए हैं। जिसमे यह मामला सिवाना उपखंड क्षेत्र के मायलावास ग्राम पंचायत का हैं। जहां ग्रामीणों ने बताया कि मायलावास स्थित महादेव गौशाला में बिजली कनेक्शन के लिए 24 अगस्त 2023 को डिमांड राशि 17727 जमा करा दी थी। बावजूद इसके आज भी कनेक्शन के लिए विभागीय कार्यालय के चक्कर लगाने पड़ रहे है। लेकिन वहां पर सुनने वाला कोई नहीं। गौरतलब है कि डिस्कॉम में बिजली कनेक्शन आवेदन की प्रक्रिया के लिए ऑनलाइन सॉफ्टवेयर सिस्टम बना हुआ है लेकिन बिजली विभाग कार्यालय पर अधिकांश में ऑफलाइन फाइल ही जमा की जा रही है ताकि सिस्टम में कनेक्शन का आवेदन पेंडिंग नहीं दिखे और कार्यालय के अधिकारी अपनी मनमर्जी से कनेक्शन जारी कर सकें।

नियम कायदे भूले जिम्मेदार

क्षेत्र में बेवजह उपभोक्ताओं को डिमांड राशि जमा करने के बावजूद कई महीनों तक भी कनेक्शन नहीं दिए जा रहे हैं। जबकि डिमांड राशि भरने के 15 दिवस के भीतर विद्युत कनेक्शन जोड़ने का प्रावधान हैं। अन्यथा उच्च अधिकारियों द्वारा जिम्मेदार अधिकारी पर कार्रवाई अमल में लाई जा सकती है। बावजूद इसके प्रावधान के क्षेत्र के अधिकारी खुलेआम धज्जियां उड़ा रहे हैं। जिसका खामियाजा उपभोक्ताओं को भुगतना पड़ रहा हैं। हालात यह हैं कि जिनके कंधों पर यह जिम्मेदारी हैं वो कोई तो नाम नही बता रहे तो कोई कॉल रिसीव नही कर रहे हैं।

आखिर जिम्मेदार कौन?

दरअसल कनेक्शन मायलावास स्थित महादेव गौशाला का हैं, जहां पांच माह बीतने के बाद भी कनेक्शन नही मिलने से ग्रामीणों में भारी आक्रोश व्याप्त हैं। इस मुद्दे को लेकर मोकलसर जेईएन महेंद्र फुलवारिया से दो नम्बर पर सम्पर्क किया तो एक नम्बर बंद आये वहीं दूसरे नम्बर पर कॉल किया मगर उठाने की जहमत नही उठाई, बाद में सिवाना एईएन सौरभ सिंह को कॉल किया तो वो रट लगाए बैठे की जेईएन से बात करो। कई बार स्टेटमेंट के लिए नाम पूछा तो नाम तक नही बताया। हालांकि इससे पूर्व में भी इस मुद्दे को लेकर विभाग को अवगत करवाया गया था, मगर विभाग में बैठे गैर जिम्मेदार अधिकारियों के जूह तक नही रेंगी।

यहां उपभोक्ताओं को सिर्फ आश्वासन ही मिलता हैं क्या?

बता दें कि विद्युत विभाग से जुड़े उपभोक्ताओं को हो रही समस्याओं का तुरंत समाधान हो इसके लिए एक्स प्लेटफार्म पर अकॉउंट बनाया हुआ हैं। लेकिन यह अकॉउंट सिर्फ आश्वासन देता हैं। समस्या का समाधान नही होता। क्योंकि इससे पूर्व में भी विभाग के इसी अकॉउंट ने आश्वस्त किया था कि विभागीय अधिकारियों को अवगत करवा दिया हैं, जल्द ही समस्या का निस्तारण हो जाएगा, लेकिन अब तक नही हो पाया हैं। इस बीच सबसे बड़ा सवाल यह कि आमजन की समस्या के लिए बनाए गए इस अकॉउंट से उपभोक्ताओं की समस्याओं का समाधान होता भी हैं या नही? या अवगत नही करवाया जाता? या फिर जिम्मेदार सुनते नही?

चढ़ावे का इंतजार तो नही?

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार सिवाना डिस्कॉम में बिना चढ़ावे के काम नही होता, ऐसे में हो सकता हैं यहां से चढ़ावा नही मिला हो, बाकी पांच माह बीतने के बाद भी कनेक्शन नहीं मिलना वाकई विचारणीय हैं। ग्रामीणों ने बताया कि गौशाला में कनेक्शन के लिए सरकारी नियमानुसार राशि भर दी गई हैं। बावजूद इसके कनेक्शन क्यों नही जोड़ा जा रहा हैं? यह विभागीय अधिकारियों की मनमानी हैं।

संपादक: भवानी सिंह राठौड़ (फूलन)

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!