नेशनल हाइवे पर गाँधीचोक में अतिक्रमण से हादसों का खतरा, गत एक सप्ताह में दो लोग हुए चोटिल

नेशनल हाइवे पर गाँधीचोक में अतिक्रमण से हादसों का खतरा, गत एक सप्ताह में दो लोग हुए चोटिल
Spread the love

सिवाना

कस्बे के आबादी क्षेत्र से गुजरने वाले नेशनल हाईवे 325 पर अस्थाई अतिक्रमण को लेकर स्थानीय नगरपालिका के अधिशासी अधिकारी की ओर से ढुलमुल रवैया अपनाए जाने के कारण आए दिन हादसों के निर्दोष लोग शिकार हो रहे हैं। गत एक सप्ताह के दरम्यान दो हादसों में दो लोग चोटिल हो जाने के बावजूद नगरपालिका प्रशासन द्वारा कोई कार्यवाही नहीं कर रहा है। न उपखण्ड प्रशासन ध्यान दे रहा है। मुख्य रूप से गाँधीचोक सर्किल के चारो ओर फल सब्जियों के खोमचों के खड़े रहने से जहाँ एक ओर हाइवे से निकलने वाले वाहनों व बस स्टैंड की ओर जाने वाले लोगो को आवागमन में भारी परेशानी उठानी पड़ रही है। लेकिन नगरपालिका अधिकारी आंखे मूंदकर बैठे हैं। कमोबेश यही स्थिति हाइवे पर आयुर्वेद हॉस्पिटल से लेकर सत्कार कॉम्प्लेक्स तक बनी हुई हैं। आयुर्वेद हॉस्पिटल के सामने हाइवे सड़क किनारे जहाँ थ्री व्हीलर टैक्सियों के जमावड़े के साथ निजी ट्रेवल्स बसों व रोडवेज बसों का अस्थाई अतिक्रमण से आए दिन छोटी बड़ी दुर्घटना होना आम बात हो गई है। 

प्रशासन मोन

हाइवे पर अतिक्रमण को लेकर स्थानीय उपखण्ड प्रशासन से लेकर नगरपालिका के अधिशासी अधिकारी मोन धारण कर बैठे हैं। तथा इस भीड़भाड़ वाले यातायात अव्यवस्था व अतिक्रमण को लेकर कोई कार्यवाही पिछले 6 महीने नही कर रहे हैं। जिसके कारण इस दरम्यान इस मार्ग पर एक राह चलता व्यक्ति ट्रक से कुचल कर मारा गया। तथा अनगिनत निर्दोष लोग चोटिल हो चुके हैं।

 

कोई कार्यवाही नही

आबादी क्षेत्र से गुजरने वाले एनएच 325 अतिक्रमण हटाने की मांग को लेकर कई बार सरकारी बैठकों में व स्थानीय जिम्मेदार अधिकारियों को कहने के बावजूद कोई कार्यवाही नही हो रही है।

हुकमसिंह खिंची पूर्व उपप्रधान सिवाना

संपादक: भवानी सिंह राठौड़ (फूलन)

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!