जर्जर विधुत तंत्र दे रहा है जवाब, विधुत कटौती की समस्या बनी नासूर।

जर्जर विधुत तंत्र दे रहा है जवाब, विधुत कटौती की समस्या बनी नासूर।
Spread the love

डिस्कॉम के जिम्मेदार भाग रहे हैं अपनी जिम्मेदारी से, नही देते सन्तोषप्रद जवाब

सिवाना

कस्बे में वर्षो पुराने विधुत तंत्र के सुधार को लेकर लम्बे समय से ठोस उपाय नहीं हो पाने के कारण विधुत कटौती की समस्या कस्बे वासियो के लिए नासूर बनती जा रही है। दिन में कई बार अघोषित विधुत कटौती होना आम दिनचर्या का हिस्सा बनता जा रहा है। विधुत फाल्ट के नाम पर कटौती होने की समस्या से लोग परेशान हैं। वर्षो पुरानी बिच्छाई गई विधुत लाइने व जर्जर पोल विधुत कटौती में सबसे बड़े बाधक बने हुए हैं ।ऊपर से डिस्कॉम में कार्मिको की कमी आग में घी का काम कर रही है ।कभी तार टूटने तो कभी पोल गिरने की घटनाओं से घण्टो तक विधुत कटौती की समस्या से लोगो को परेशानी उठानी पड़ रही है। कस्बे के विभिन्न मोहल्लों में जर्जर पोल व ढीले तार आज दिन तक दुरस्त नही होने के कारण हर समय हादसे के डर के साथ अनगिनत बार विधुत फॉल्ट होने के कारण विधुत कटौती नासूर बन गई है। आवागमन के पादरू रोड सदर बाजार रोड, खालसों का वास, देवन्दी रोड सहित कई मोहल्लों में पर हर समय भारी वाहनों व पैदल राहगीरों का आना जाना लगा रहता है।साथ ही मार्ग के दोनों तरफ आवासीय बस्तियां बसी हुई है। ऐसे में ऊक्त जर्जर विधुत पोल कभी भी बड़े हादसे को न्योता दे सकता है । ऐसे जर्जर पोल कस्बे के एक दर्जन विभिन्न मोहल्लों में हादसे को न्योता दे रहे हैं।साथ ही पुराने तार नही बदले जाने सेहल्की बारिश व हवा में टूटकर गिर जाते हैं जिससे घण्टो विधुत सप्लाई बंद रहती है। 

 

इधर जिम्मेदार निचले अधिकारी भाग रहे हैं जिम्मेदारी से।

स्थानीय उपभोक्ताओं द्वारा जब भी डिस्कॉम के निचले स्तर के अधिकारियों व कार्मिको को समस्या से अवगत कराते हैं। तो जिम्मेदार संतोषप्रद जवाब देने की जगह अपनी जिम्मेदारी से भाग रहे हैं। एक मात्र अधिशासी अभियंता उपभोक्ताओं को जवाब देते हैं। लेकिन निचले अधिकारी उच्च अधिकारी की मानते नही है। यही हाल एफआईटी टीम का है। मात्र दो लाइनमैन नियुक्त है। एक कार्मिक को तीन दिन पूर्व करंट आने से रेस्ट में है। एक कार्मिक समय पर उपभोक्ताओं की कम्प्लेन निकालने में इतनी दिलचस्पी नही लेने के कारण लोग भारी परेशानी उठाने पर मजबूर हैं। रही बात डिस्कॉम के लाइनमैनों की। तीन कार्मिको की नियुक्ति चल रही है। लेकिन उक्त लाइनमैन अपनी जिम्मेदारी ठोस तरीके से नही निभा रहे हैं।

संपादक: भवानी सिंह राठौड़ (फूलन)

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!