शिक्षा व संस्कार जीवन का आधार: एसीबीओ चौधरी

शिक्षा व संस्कार जीवन का आधार: एसीबीओ चौधरी
Spread the love

सिवाना एसीबीओ ने किया पुस्तकालय का औचक निरीक्षण

मायलावास। शिक्षा व संस्कार हमारे जीवन के आधार हैं, यह दोनों शब्द एक दूसरे से जुड़े हुए है। शिक्षा मनुष्य के जीवन का अनमोल उपहार है जो व्यक्ति के जीवन की दिशा और दशा दोनों बदल देती है। वहीं संस्कार जीवन का सार है जिसके माध्यम से मनुष्य के व्यक्तित्व का निर्माण और विकास होता है। उक्त विचार शुक्रवार को पुस्तकालय का निरीक्षण करने के दौरान सिवाना एसीबीओ हनुमान राम चौधरी ने व्यक्त किए। दरअसल चौधरी शुक्रवार को क्षेत्र के दौरे पर रहे जहां उन्होंने स्कूलों का औचक निरीक्षण कर दिशा निर्देश दिए। वहीं मायलावास चौराया पर स्थित डॉ भीमराव अंबेडकर पुस्तकालय एवं वाचनालय का भी निरीक्षण किया। जहां जगह की लोकेशन, माहौल और अभ्यार्थी के संस्कारों से काफी प्रभावित हुए। इस दौरान चौधरी ने कहा कि पढ़ाई के लिहाज से लोकेशन बेहद शानदार हैं। उन्होंने कहा कि शिक्षा के बिना जीवन व्यर्थ हैं, इसलिए कामयाबी हासिल करने के लिए जीवन में शिक्षा व संस्कारों के होना जरूरी हैं, इस दौरान चौधरी ने बाबा साहब डॉ भीमराव अंबेडकर का उदाहरण देते हुए कहा कि उन्होंने उच्च शिक्षा अर्जित की इसलिए आज लोग उन्हें याद करते हैं। इस दौरान चौधरी ने यहां प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे अभ्यर्थियों से संवाद स्थापित कर उन्हें जीवन में सफल होने का मूलमंत्र दिया। इस दौरान शिक्षा विभाग से शंकरलाल कटारिया मेली, कानू सोलंकी, मंदिर महंत मीठा महाराज, भटेन्द्र जोगसन, फूलाराम सोलंकी, विक्रम रेड्डी रमणिया, गेनाराम सेला सहित कई ग्रामीण व अभ्यर्थी मौजूद रहे।

संपादक: भवानी सिंह राठौड़ (फूलन)

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!