बाड़मेर के पूर्व विधायक मेवाराम जैन को मिली बड़ी राहत

बाड़मेर के पूर्व विधायक मेवाराम जैन को मिली बड़ी राहत
Spread the love

कोर्ट ने याचिका की निस्तारित, गैंगरेप मामले में एफआर पेश करने के निर्देश

बाड़मेर

राजस्थान हाईकोर्ट की एकलपीठ ने गैंगरेप के आरोपी बाड़मेर से कांग्रेस के पूर्व विधायक मेवाराम जैन की याचिका निस्तारित कर दी। कोर्ट ने कहा कि पुलिस की ओर से प्रस्तावित एफआर को अधिनस्थ कोर्ट के समक्ष संबंधित थानाधिकारी जल्द पेश करें। हाईकोर्ट में जैन की ओर से दायर याचिका की सुनवाई सोमवार को हुई थी। एकल पीठ में जस्टिस फरजंद अली के समक्ष सुनवाई के दौरान अतिरिक्त महाधिवक्ता अनिल कुमार जोशी ने कहा कि एडिशनल डिप्टी कमिशनर ऑफ पुलिस जोधपुर वेस्ट की ओर से दिए गए तथ्यात्मक प्रतिवदेन के अनुसार मामला जांच में झूठा पाया गया है। मामले में नेगेटिव फाइनल रिपोर्ट पेश की जा रही है। उन्होंने तीनों पीड़िताओं के सीआरपीसी की धारा 164 के तहत दिए गए बयानों की प्रतिलिपियां भी कोर्ट के समक्ष पेश की। कोर्ट ने कहा कि पुलिस के नतीजे में नेगेटिव अंतिम रिपोर्ट पेश की जानी है और पीड़िताओं के बयानों को देखते हुए वर्तमान याचिका को लंबित रखने का कोई कारण नहीं रहता।

 

गिरफ्तार नहीं करने के दिए थे निर्देश

कोर्ट ने संबंधित थानाधिकारी को एफआर संबंधित ट्रायल कोर्ट अधीनस्थ कोर्ट में जल्द से जल्द नकारात्मक अंतिम रिपोर्ट पेश करने का कहा है। साथ ही जांच में यू-टर्न की स्थिति में याचिककर्ता को अंतरिम राहत भी दी। याचिकाकर्ता मेवाराम जैन ने राजीव नगर पुलिस थाने में 20 दिसंबर को खुद के खिलाफ विभिन्न धाराओं में दर्ज एफआईआर को चुनौती दी थी। पहली सुनवाई पर कोर्ट ने पूर्व विधायक जैन को जांच में शामिल होने और सहयोग करने का कहा था। इसके साथ ही पुलिस थाना राजीव नगर को याचिकाकर्ता को गिरफ्तार नहीं करने के निर्देश भी दिए गए थे।

संपादक: भवानी सिंह राठौड़ (फूलन)

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!