पूर्व विधायक अमृता ने ससुराल पक्ष पर दहेज प्रताड़ना व मारपीट का करवाया केस दर्ज।

पूर्व विधायक अमृता ने ससुराल पक्ष पर दहेज प्रताड़ना व मारपीट का करवाया केस दर्ज।
Spread the love

ससुराल पक्ष ने भी करवाया क्रॉस मामला दर्ज।

जबकि पूर्व विधायक सीसीटीवी फुटेज में ससुर को धक्का मारते दिखाई दे रही है।

5 साल से चल रहा था विवाद, एक साल पूर्व एडवोकेट पति से हो चुका है तलाक।

जालोर

 पूर्व विधायक अमृता मेघवाल ने ससुराल पक्ष पर दहेज प्रताड़ना व मारपीट का मामला जालोर महिला थाने में दर्ज कराया है। जबकि एक वीडियो सामने आया है। इसमें वह अपने ससुर को धक्का मारते नजर आ रही हैं। सीसीटीवी फुटेज रविवार शाम करीब 7.30 बजे का है। इस घटना के करीब 1 घंटे बाद मेघवाल महिला थाने पहुंचीं। और ससुराल वालों पर मारपीट करने और दहेज के लिए प्रताड़ित करने का केस दर्ज कराया।

 

पुलिस ने पूर्व विधायक का मेडिकल कराया

महिला थाना प्रभारी सारिका ने बताया कि पूर्व विधायक अमृता मेघवाल (39) रविवार रात को 8.30 बजे थाने पहुंचीं थीं। उन्होंने ससुराल पक्ष पर दहेज के लिए प्रताड़ित करने और मारपीट करने का केस दर्ज कराया। मेघवाल ने पूर्व पति बाबूलाल, ससुर हेमाराम, चाचा ससुर शिवलाल सोलंकी और देवर कैलाश के खिलाफ मारपीट करने का आरोप लगाया। पुलिस ने मामला दर्ज कर जिला अस्पताल में उनका मेडिकल करवाया। 

अमृता मेघवाल का आरोप- गालियां दीं, मारपीट की

अस्पताल में मीडिया से बात करते हुए अमृता मेघवाल रो पड़ीं। उन्होंने कहा- कई साल से ससुराल के लोग मेरे साथ यह बर्ताव दोहरा रहे हैं। जब से शादी करके ससुराल आई और अब जब भी आती हूं तो गलत होता है। मैं यहां किसी न किसी कार्यक्रम में आती रहती हूं। बुरा लग रहा है कि जनप्रतिनिधि हूं और आपके सामने इस तरह अपनी तकलीफ बयान कर रही हूं। अमृता मेघवाल ने रविवार की घटना के बारे में बताया कि मैं अपने घर (जालोर में रामदेव कॉलोनी) जा रही थी। इस दौरान मेरे ससुर हेमाराम और चाचा ससुर शिवलाल सोलंकी आए। उन्होंने मुझे गालियां देना शुरू कर दिया। मेरे पास इसकी रिकॉर्डिंग है। मैं बता नहीं सकती कि कितने खराब शब्द कहे। मैं उन्हें कहती रही कि चुप हो जाओ। इसके बाद चिंटू और कैलाश (शिवलाल का बेटा) आए और मुझे गाल पर मारा। पूर्व विधायक ने बताया कि इन लोगों ने शुरू से ही मुझे बहुत परेशान किया है। हमेशा परेशान किया है। कहते थे- तेरे पापा अमीर हैं, ये सामान लेकर आ, वो सामान लेकर आ। मम्मी-पापा से ये लोग लाखों नहीं बल्कि करोड़ों रुपए ले चुके हैं। सॉरी मैं अब बोल नहीं पा रही हूं।

 

चाचा ससुर बोले- ताला तोड़ रही थी, रोका तो शर्ट फाड़ी

मेघवाल के ससुराल पक्ष की ओर से चाचा ससुर शिवलाल सोलंकी ने भी क्रॉस रिपोर्ट दर्ज कराई। सोलंकी ने बताया- रविवार शाम करीब 7.30 बजे अमृता अचानक दो औरतों को लेकर कार से रामदेव कॉलोनी स्थित घर पहुंचीं। मकान पर ताला लगा था। उसने ताला तोड़ने की कोशिश की। दरवाजा खोलने के दौरान खटखट की आवाज सुनकर मैं (शिवलाल), मेरे भाई हेमाराम (अमृता के ससुर) ने ताला तोड़ने का विरोध किया तो कहासुनी करने लगी। इस दौरान अमृता ने मेरी शर्ट फाड़ दी। बुजुर्ग भाई हेमाराम को धक्का दिया और थप्पड़ मारा। इस पर मैंने और हेमाराम ने कोतवाली थाने में उनके खिलाफ मामला दर्ज कराया। कुछ सीसीटीवी फुटेज भी पुलिस को दिए हैं। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू की है।

सीसीटीवी में ससुर को धक्का मारते दिखीं पूर्व विधायक

पुलिस को सौंपा गया सीसीटीवी 7 जुलाई शाम 7.37 बजे का है। हरे सूट में अमृता दिखाई दे रहीं हैं। सफेद धोती और बनियान में ससुर हेमाराम हैं। कार का दरवाजा खोलने के दौरान वे अचानक ससुर को धक्का मारती दिख रही हैं।

 

एडवोकेट पति बाबूलाल से हो चुका है तलाक

अमृता मेघवाल की शादी जालोर जिले के नोरवा हाल रामदेव कॉलोनी निवासी एडवोकेट बाबूलाल मेघवाल पुत्र हेमाराम मेघवाल से 21 अप्रैल 2008 को हुई थी। अमृता चाणोद (पाली) की रहने वाली हैं। 21 जनवरी 2019 को दोनों के बीच इतना विवाद हुआ कि वे अलग रहने लगे। करीब 3 साल बाद पति बाबूलाल ने फैमिली कोर्ट जालोर में वैवाहिक संबंध विच्छेद (तलाक) के लिए प्रार्थना पत्र दाखिल किया। इसके बाद कोर्ट ने अमृता मेघवाल को कई नोटिस भेजकर उपस्थित होने को कहा, लेकिन अमृता मेघवाल कोर्ट में उपस्थित नहीं हुईं। इस पर कोर्ट ने 4 मई 2023 को तलाक का फैसला बाबूलाल के पक्ष में दे दिया। अमृता मेघवाल अभी भी जालोर में कई कार्यक्रमों में आती रहती हैं। वे अपने ससुराल नहीं जातीं।

 

एक नजर में अमृता मेघवाल का राजनीतिक करियर

अमृता मेघवाल भाजपा के टिकट पर 2013 में जालोर विधानसभा सीट से विधायक चुनी गई थीं। उन्होंने कांग्रेस के रामलाल को 46 हजार 800 मतों के अंतर से हराया था। उस दौरान जोगेश्वर गर्ग का टिकट काटकर पार्टी ने अमृता मेघवाल को उम्मीदवार बनाया था। 2018 में राजनीतिक कार्यों में पति बाबूलाल की दखलअंदाजी और लेन-देन के आरोपों से घिरने के बाद पार्टी ने अमृता मेघवाल का टिकट काटकर जोगेश्वर गर्ग को दे दिया था। इसके बाद पति-पत्नी में विवाद बढ़ने लगा। दोनों एक-दूसरे पर आरोप लगाने लगे। फिलहाल वे बेटी के साथ जयपुर और दिल्ली में रहती हैं। नेता होने के साथ अमृता मेघवाल बिजनेस वुमेन भी हैं। जयपुर में उनकी अर्थसन फार्मास्युटिकल नाम से कंपनी है। 

 

अमृता मेघवाल पर पहले भी हो चुके हैं हमले

पूर्व विधायक अमृता मेघवाल पर 15 अगस्त 2022 को जयपुर से जालोर जाते समय अजमेर में हमला हुआ था। अजमेर में नारेली पुलिया के पास बोलेरो में आए 4 हमलावरों ने उनकी गाड़ी रुकवाई। इन लोगों ने अपशब्द बोले और पिस्टल दिखाकर हमला किया था। इस घटना की सूचना अलवर गेट थाना पुलिस को दी गई थी और कई कार्यकर्ता भी थाने पहुंचे थे। इससे पहले 6 नवंबर 2021 में जयपुर में भी अमृता मेघवाल पर बदमाशों ने हमला किया था। बाइक सवार युवकों ने अमृता मेघवाल की कार का पीछा किया। ट्रांसपोर्ट नगर पुलिया पर बदमाशों ने कार पर पत्थर फेंके। इससे कार का शीशा टूट गया और आगे की सीट पर बैठीं अमृता मेघवाल के कान में चोट लगी।

संपादक: भवानी सिंह राठौड़ (फूलन)

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!