सरकारी सीमेंट का खुलेआम हो रहा निजी निर्माण में उपयोग

सरकारी सीमेंट का खुलेआम हो रहा निजी निर्माण में उपयोग
Spread the love

सरकारी निर्माण का ठेका लेने वाले ठेकेदार करते हैं इसकी कालाबाजारी

सिवाना

उपखंड क्षेत्र के विभिन्न गांवों में विभागीय अधिकारियों की अनदेखी के चलते सरकारी सीमेंट बेचने का काला कारोबार फलफूल रहा हैं। जिससे सरकार को वैट व एक्साइज ड्यूटी का नुकसान उठाना पड़ रहा है। बावजूद इसके अब तक सरकारी सीमेंट बेचने वालों पर कोई कार्यवाही नही की गई हैं। जानकारी के मुताबिक सरकारी सीमेंट व दुकानों पर बिकने वाले सीमेंट की दर में कम से कम 50 से 100 रुपए प्रति कट्टे का अंतर रहता है। इसलिए यह लोग बड़ा मुनाफा कमाने के लिए कई संस्थाएं व ठेकेदार अपने लाइसेंस के नाम से सीमेंट मंगवाकर या तो निजी निर्माण कार्य में लगा देते हैं या फिर बेच देते हैं। साथ ही सीमेंट कंपनियां दो तरह का सीमेंट जारी करती हैं, जिसमें ट्रेड सीमेंट आम उपभोक्ता को तथा नॉन ट्रेड सीमेंट सरकारी निर्माण कार्य, बड़े प्रोजेक्ट, बड़े ठेकेदार या संस्था जिसका बड़ा प्रोजेक्ट हो उसको बेचा जाता है। वर्तमान में आम दुकानों पर बिकने वाले सीमेंट के कट्टे की कीमत 340 से 400 तक बताई जा रही हैं जबकि सरकारी सीमेंट महज 240 रुपये में आसानी बेचा जा रहा हैं। जिससे निजी दुकान संचालकों के कारोबार में भी असर देखने को मिल रहा हैं।

 

सरकारी निर्माण कार्य के ठेके लेेने वाले ठेकेदार कर रहे सप्लाई

दरअसल सरकारी ठेके लेने वाले ठेकेदार सरकारी निर्माण कार्य के लिए नॉट फोर सेल लिखा हुआ सीमेंट कारखाने से मंगवाते हैं लेकिन ठेकेदार उसी सीमेंट का बदमाशी करके निजी निर्माण कार्य में लगाने के लिए बेच देते है। जिससे उन्हें बड़ा मुनाफा होता है। जबकि फैक्टरी से मिलने वाले सीमेंट के कट्टों पर बकायदा नॉट फोर रिटेल सेल का भी हवाला दिया रहता है। इसके बावजूद इन्हें बेचने का कारोबार जोरों पर चल रहा है।

 

तो क्या कहीं भी बिक सकता हैं सरकारी सीमेंट?

जानकारी के मुताबिक सरकारी सीमेंट का उपयोग सिर्फ सरकारी कार्यों में ही लिया जा सकता हैं लेकिन सरकारी सीमेंट का निजी निर्माण कार्यों में उपयोग करने वालों का यह दावा हैं कि यह सीमेंट कहीं भी कितनी भी तादाद में उपलब्ध हो सकता हैं। क्षेत्र में ऐसे कई निर्माण कार्य चल रहे हैं जहां इनका उपयोग धड़ल्ले से किया जा रहा हैं वहीं विभागीय अधिकारियों की अनदेखी के चलते स्टॉक कर रखे जगहों से इनकी सप्लाई करने का कारोबार फलता फूलता जा रहा हैं। कार्यवाही नही होने से इनके हौंसले बुलंद हैं।

 

कार्रवाई की जाएगी

इस बारे में मुझे जानकारी नही हैं, सरकारी सीमेंट का सिर्फ सरकारी निर्माण कार्यों में ही उपयोग में लिया जा सकता हैं। अगर सरकारी सीमेंट का उपयोग कमर्शियल या घरेलू कार्य में हो रहा हैं तो गलत हैं। उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

रविशेखर, तहसीलदार सिवाना

संपादक: भवानी सिंह राठौड़ (फूलन)

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!