आत्मरक्षा प्रशिक्षण प्राप्त कर रही शिक्षिकाओं को दी साइबर अपराध की जानकारी

आत्मरक्षा प्रशिक्षण प्राप्त कर रही शिक्षिकाओं को दी साइबर अपराध की जानकारी
Spread the love

बालोतरा

जिलाविधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव सिद्धार्थ दीप ने आत्मरक्षा प्रशिक्षण प्राप्त कर रही बालोतरा ब्लॉक की शिक्षिकाओं को साइबर अपराध, सेफ्टी, हाईजिन पर जानकारी प्रदान की। जिसका उद्देश्य साइबर से होने वाले अपराधों की जानकारी देना तथा साइबर अपराध से कैसे बचा जा सकता है।प्राधिकरण के सचिव सिद्धार्थ दीप ने आत्मरक्षा प्रशिक्षण प्राप्त कर रही बालोतरा ब्लॉक की शिक्षिकाओं को साइबर अपराध की जानकारी देते हुए बताया कि साइबर अपराध मुख्य रूप से ऑनलाईन होता है। साइबर अपराध अक्सर कंप्यूटर नेटवर्क से जुड़ा अपराध है साइबर अपराधों में साइबर स्टाकिंग, उत्पीड़न, धमकाने और बाल यौन शोषण जैसी चीजों के साथ सुरक्षा और वित्त को नुकसान पहुंचाने में बड़ा योगदान है। अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर आपराधिक प्रवृत्ति के लोग साइबर अपराधों में संलग्न होते है, जिनमें जासूसी, वित्तीय चोरी और अन्य सीमा पार अपराध शामिल हैं। अंतर्राष्ट्रीय सीमाओं को पार करने वाले या एक राष्ट्र राज्य के कार्यों को शामिल करने वाले साइबर अपराध को कभी-कभी साइबर युद्ध कहा जाता है।

साइबर अपराध से खुद को कैसे बचाएं

साइबर अपराध से बचने के लिए इंटरनेट का उपयोग करने वाले किसी को भी कुछ बुनियादी सावधानी बरतनी चाहिए। अपने डिवाइस के लिए बढ़िया एंटीवायरस या इंटरनेट सिक्योरिटी एप्लीकेशन का प्रयोग कर सकते है। अलग अलग वेबसाईट पर अपने पासवर्ड न दोहराएं तथा साथ ही पासवर्ड जटिल हो। अपने डिवाइस पर आए मैसेज को बिना जांचे आगे प्रेषित ना करें।इस अवसर पर पूर्व प्रशासनिक अधिकारी ललित के पंवार, दामोदर व्यास, पूर्व शिक्षाविद् राधारानी शर्मा, सिम्पल शर्मा, सालगराम जी परिहार, ओमजी बाठिया, सुरेश जी गोयल, दूधाराम, पारसमल भंडारी, डॉ रामेश्वरी चौधरी उपस्थित रहे

संपादक: भवानी सिंह राठौड़ (फूलन)

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!