टूरिस्ट प्लेस में विकसित करने की पहल…,धोरों में सजेगी शाम, आपणो रण-आपणो थार का होगा आयोजन

टूरिस्ट प्लेस में विकसित करने की पहल…,धोरों में सजेगी शाम, आपणो रण-आपणो थार का होगा आयोजन
Spread the love

बाड़मेर

सरहदी जिले बाड़मेर को पर्यटन के क्षेत्र में विकसित करने और पलायन को रोकने के मकसद से रविवार को बाखासर रण में ‘आपणो रण: आपणो थार’ प्रोग्राम का आयोजन किया जा रहा है। यह प्रोग्राम भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष एवं शिव विधानसभा चुनाव लड़ चुके स्वरूप सिंह राठौड़ खारा की ओर से करवाया जा रहा है। स्वरूप सिंह का कहना है कि इससे पर्यटन मानचित्र में उचित दिलाने एवं लोक संस्कृति को बढ़ावा देने का प्रयास किया जाएगा। बाखासर रण में घुड़ दौड़, ऊंट दौड़, सांस्कृति प्रोग्राम के साथ कालबेलिया व गैर नृत्य का आयोजन किया जा रहा है। लोकसभा चुनाव में अब दो-तीन माह का समय बचा है। इससे पहले नेता अपने-अपने तरीके से कैंपेनिंग शुरू कर दी है। भाजपा के नेता कुछ ज्यादा सक्रिय नजर आ रहे है। वहीं कांग्रेस के नेता विधानसभा वार संपर्क करने में जुटे हैं। इस प्रोग्राम को स्वरूप सिंह खारा के लोकसभा चुनाव लड़ने से जोड़ा जा रहा है। रविवार को सुबह बाड़मेर शहर से सैकड़ों की तादाद में वाहन रैली निकालकर निंबड़ी, चौहटन, धनाऊ, सेड़वा होते हुए बाखासर पहुंची। इस दौरान वाहन रैली का जगह-जगह स्वागत किया जाएगा। भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष स्वरूप सिंह राठौड़ खारा की ओर से हो रहे इस प्रोग्राम में मारवाड़ की लोक संस्कृति की झलक देखने को मिलेगी। स्वरूप सिंह राठौड़ ने बताया कि बाड़मेर जिले के पर्यटन स्थल अनूठे हैं, विभिन्न विविधताओं वाले स्थल प्रचार-प्रसार के बिना लोगों की नजरों से दूर है। इसी क्रम में पहले ऐतिहासिक किराडू के मंदिरों में दीपदान प्रोग्राम का आयोजन किया गया था।

 

गुजरात व राजस्थान जुड़े रण क्षेत्र में सजेगी शाम

रोजगार की तलाश के लिए ग्रामीण लोग अपने घरों को छोड़कर अन्य राज्यों में पलायन करते है। इस पलायन को रोकने के लिए यहां पर पर्यटन स्थल विकसित कर युवाओं को रोजगार उपलब्ध करवाया जाए। तनोट से लगाकर बाखासर रण तक 7-8 बड़े पर्यटन स्थल स्थापित करवाने की मंशा है। इससे हजारों युवाओं को रोजगार मिले, हस्तशिल्प, नमक उद्योग की भी व्यवस्था हो। गुजरात व राजस्थान राज्य का सेतु है बाखासर जो पर्यटन की दृष्टि से बड़ा केंद्र बने। इन संभावनाओं को देखते हुए एक प्रोग्राम का आयोजन किया जा रहा है।

 

यह होंगे प्रोग्राम

भाजपा नेता ने कहा कि कार्यक्रम में कनाना एवं सनावड़ा का भव्य गेर नृत्य, कालबेलिया नृत्य, कच्छी घोड़ी नृत्य, भवई नृत्य सहित विभिन्न मारवाड़ की लोक कलाओं की स्थानीय कलाकारों द्वारा सांस्कृतिक प्रस्तुतियां दी जाएगी। वहां पर घुड़ दौड़, ऊंट दौड़ का भी आयोजन किया जाएगा। वहीं विशेष रूप से शहनाई एवं नापत वाद्य यंत्रों की मधुर ध्वनियां बजाई जाएगी।

संपादक: भवानी सिंह राठौड़ (फूलन)

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!