जेएनवीयू कुलपति ने कार्यलय के आगे जमीन पर बैठकर किए इस्तीफे पर हस्ताक्षर

जेएनवीयू कुलपति ने कार्यलय के आगे जमीन पर बैठकर किए इस्तीफे पर हस्ताक्षर
Spread the love

एबीवीपी ने वीसी को घेरा, कार में जाने लगे तो नारेबाजी करने लगे, विरोध के बाद पैदल निकले

जोधपुर

जयनारायण व्यास यूनिवर्सिटी के कुलपति केएल श्रीवास्तव ने शनिवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। लेकिन, विवादों में वीसी श्रीवास्तव के इस्तीफे को लेकर शनिवार को 1 घंटे तक नाटकीय घटनाक्रम चला। मामला जोधपुर के रेजिडेंसी रोड स्थित यूनिवर्सिटी हेड ऑफिस में शनिवार सुबह 11:30 बजे का है। एबीवीपी के प्रदर्शन के दौरान जब छात्रसंघ के पदाधिकारी नहीं माने तो पीएम को बुला इस्तीफा लिख दिया और उस पर साइन कर दिया। इतना ही नहीं जब वे सरकारी कार से जाने लगे तो फिर विरोध शुरू कर दिया। इसके बाद वे कार से उतर पैदल ही रवाना हो गए। गौरतलब है कि वीसी श्रीवास्तव चहेते प्रोफेसरों को रिटायरमेंट के बाद भी उनकी कार्यकाल की अवधि बढ़ाने, गोपनीय शाखा की गोपनियता भंग करने और नियम विरूद्ध एग्जाम फीस बढ़ाने को लेकर विवादों में आए थे। 

 

1 घंटे समझाइश के बाद भी नहीं माने तो दिया इस्तीफा

दरअसल, शनिवार को एबीवीपी की ओर से 74 सूत्रीय मांगों को लेकर प्रदर्शन चल रहा था। । इस दौरान प्रांत सहमंत्री सचिन राजपुरोहित, इकाई सह सचिव यश शर्मा के नेतृत्व में छात्रों ने वीसी श्रीवास्तव की कार का घेराव कर दिया। इस पर वे नीचे उतरे और सभी को उनके ऑफिस की तरफ चलने को कहा। यहां वीसी स्टूडेंट के साथ कार से उतर पैदल ऑफिस तक पहुंचे। यहां उनके गेट के बाहर ही सभी ने घेराव कर दिया और नारे लगाना शुरू कर दिया। इस पर उन्होंने सभी को ऑफिस में चलकर बातचीत करने को कहा लेकिन कोई स्टूडेंट राजी नहीं हुआ।

 

कार में बैठने पर किया विरोध, पैदल बाहर तक जाना पड़ा

पूरा मामला करीब 2 घंटे तक चला। ये घटनाक्रम वीसी के इस्तीफे के बाद भी शांत नहीं हुआ। इस्तीफा साइन करने के बाद वे ऑफिस में भी नहीं गए और वहीं बाहर कार मंगवा ली। लेकिन, वीसी को कार में बैठा देख छात्रसंघ के पदाधिकारी और स्टूडेंट दोनों ने दोबार विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया। कहने लगे की जब इस्तीफा दे दिया तो अब किस बात की सरकारी कार। इस पर वे बीच रास्ते में ही सरकारी कार से नीचे उतरे और गेट की तरफ निकल गए। यहां उन्होंने निजी कार मंगवाई थी, जिसमें बैठकर दोपहर करीब डेढ़ बजे वे रवाना हो गए।

संपादक: भवानी सिंह राठौड़ (फूलन)

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!