किशोरी मेले से विद्यार्थियों में आती हैं कैरियर के प्रति जागरूकता: राजपुरोहित

किशोरी मेले से विद्यार्थियों में आती हैं कैरियर के प्रति जागरूकता: राजपुरोहित
Spread the love

मायलावास के कस्तूरबा गांधी स्कूल के किशोरी बाल मेले में बच्चियों ने बाल वैज्ञानिक मॉडल किये प्रस्तुत 

मायलावास

उपखंड क्षेत्र के मायलावास गांव में स्थित कस्तूरबा गांधी विद्यालय में शनिवार को किशोरी मेला 2024 का आयोजन मायलावास सरपंच अशोकसिंह राजपुरोहित और भाजपा मंडल सिवाना अध्यक्ष नगसिंह की उपस्थिति में हुआ।कार्यक्रम की शुरुआत में बाल किशोरी मेले का फीता काटकर शुभारम्भ किया गया। इसके बाद बालिकाओं द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस दौरान कार्यक्रम अध्यक्ष मायलावास सरपंच अशोकसिंह राजपुरोहित ने कहा कि विद्यार्थी कैरियर तो बनाना चाहते है, लेकिन उनको इस विषय मे जानकारी नहीं होती हैं, ऐसी स्थिति मे अध्यापक उनको मार्गदर्शन करके आगे तक ले जा सकता है। इसलिए अध्यापकों की भी जिम्मेदारी बनती है कि वे विद्यार्थियों को समय-समय पर कैरियर को लेकर जागरूक करते रहे। बच्चों की उपलब्धि पर सभी बच्चों को बधाई दी और भविष्य में भी इसी तरह का प्रयास करते रहने के लिए प्रेरित किया। मुख्य अतिथि भाजपा सिवाना मंडल अध्यक्ष नगसिंह राजपुरोहित ने कहा की आज का समय तकनीक का है, इसके लिये बच्चों में जागरूकता लाकर उनमे जिज्ञासाओ का संचार करना होगा जिससे ये ही बच्चे आगे जाकर देश के लिये काम करे। पीईईओ हंवंतसिंह भायल ने बताया कि कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय टाईप-3 में किशोरी मेले का आयोजन हुआ, जिसमें स्थानीय विद्यालय के छात्र-छात्राओं ने बढ़-चढ़कर विभिन्न प्रतियोगिताओं में हिस्सा लिया। प्रतियोगिता में कक्षा 6 से 12 तक के कुल 500 छात्र-छात्राओं ने भाग लिया। मेले में बालिकाओं द्वारा विज्ञान व गणित के सम्बंधित मॉडल बनाए गए और आगंतुक मेहमानों के सामने शानदार व क्रियाशील प्रदर्शन किया। इस मेले में सिवाना, मोकलसर, लुदराड़ा, अर्जियाना, मोकलसर, मवड़ी सहित स्थानीय विद्यालय मायलावास की बालिकाओं ने भी हिस्सा लिया। मेले में कुल 500 बालिकाओं व 100 बालकों ने भाग लिया। मेले में कुल 50 स्टॉल लगाए गए।

मेले के मॉडल को बनाने वाले विज्ञानं विषय के अध्यापक राजकुमार ने कहा की मेले का मुख्य उद्देश्य बालिकाओ में छिपी प्रतिभा को उभारना और बालिकाओं में गणित एवं विज्ञान की समझ मॉडल के माध्यम से आसानी से बन सकें। किशोर-किशोरी मेले का उद्देश्य विद्यार्थियों को अपने कैरियर को लेकर अपनी समझ बनाने के प्रति जागरूक करना है। जो सपने विद्यार्थी देखते है कैसे उन सपनों को पूरा करने में मां-बाप बच्चों का सहयोग करें। इसको लेकर किशोर-किशोरी मेले का आयोजन किया गया। इस दरम्यान मेले में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले छात्र-छात्राओं को स्मृति चिन्ह व प्रशस्ति पत्र देकर प्रोत्साहित किया गया।

 

मानदेय का उठा मुद्दा

इस दौरान पूर्व सरपंच भीखी देवी ने कहा कि जो चौकीदार दिनरात काम करते हैं बावजूद इनका मानदेय बहुत कम हैं, इसमें इजाफा किया जाएं, वहीं मायलावास सरपंच ने कहा की चौकीदार व कूक कम हेल्पर का मानदेय बढ़ाया जाएं ताकि वो अपने परिवार का भरण पोषण कर सकें। 

 

ये रहे मौजूद

इस दौरान भाजपा महामंत्री हिन्दुसिंह सिणेर, पंचायत समिति सदस्या सीता देवी मेघवाल, उपसरपंच गलाराम माली, पूर्व सरपंच घेवरचंद सुंदेशा, पूर्व सरपंच भीखी देवी माली, पूर्व उपसरपंच जोगभारती गोस्वामी, मोकलसर पीईईओ रणछोड़ राम बारड़, आरपी शंकरलाल, लालसिंह राजपुरोहित, बिशनसिंह सोमड़ा, बादरमल कच्छवाह, बाबूलाल सुंदेशा, जगदीश सिंह, जबरसिह, छगन सिंह, रमेश कुमार, पारसमल सुंदेशा, भभुताराम देवासी सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण मौजूद रहे।

संपादक: भवानी सिंह राठौड़ (फूलन)

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!