आपसी भाइयो का सहयोगात्मक प्रेम हमेशा कायम रखे – गुरुभगवन्त

आपसी भाइयो का सहयोगात्मक प्रेम हमेशा कायम रखे – गुरुभगवन्त
Spread the love

महोत्सव निमित भव्य वरघोड़ा निकलेगा आज।

श्री शंखेश्वर पार्श्वनाथ (पेढ़ीजी) मंदिर का भव्य रजत जयंती महोत्सव सह गणधर प्रतिष्ठा महोत्सव।

सिवाना

श्री शंखेश्वर पार्श्वनाथ(पेढ़ीजी) मन्दिर की 25 वी वर्षगांठ निमित रजत जयंती महोत्सव के 5 वे दिन सोमवार को गुरु भगवंत ने अपने प्रवचन के दौरान रामायण के भगवान श्रीराम लक्ष्मण सीता माता के वनवास के दृष्टांत का वर्णन करते हुए कहा कि मनुष्य को आपसी भाइयो का सहयोगात्मक प्रेम भाईचारा हमेशा कायम रखना चाहिए।विशेषकर परिवार में भाई भाई का प्रेम मेलमिलाप प्रगाढ़ होना चाहिये। सुख दुःख में कभी भी साथ नही छोड़े। जरूरत पड़ने पर हमेशा प्रेम भाईचारे के साथ सुख दुख में साथ खड़े रहे। जिस प्रकार से हाथो की उंगलिया एक समान नही होती है। उसी प्रकार से एक ही पिता के पुत्रों का भाग्य व विचारधारा एक समान नही होती हैं। इसलिए एक दूसरे की विचारधारा को समझते हुए दुख सुख में साथ खड़ा रहना चाहिए। इससे पूर्व श्री पार्श्वनाथ मन्दिर में शास्त्रीय संगीत के साथ शंखेश्वर पार्श्वनाथ भगवान की दिव्य प्रतिमा का पक्षाल के साथ लाभार्थी परिवार द्वारा अष्टकारी पूजा अर्चना की गई। दोपहर व शाम को भरत चक्रवर्ती मंडप में नवकारसी भोज के आयोजन में बड़ी संख्या में जैन समाज के लोगो ने भाग लिया। वही श्री शंखेश्वर पार्श्वनाथ(पेढ़ीजी) मन्दिर में अट्ठारह अभिषेक पूजन एवं विश स्थानक पूजा का आयोजन लाभार्थियों द्वारा करते हुए खुशहाली की कामनाए की। रविवार रात्रि मेंराजीव विजयवर्गीय व कला श्री डिम्पल शाह सूरत द्वारा भव्य भक्ति रस की रमझट मचाते हुए श्रोताओं को प्रभु भक्ति से सराबोर कर दिया। महोत्सव में कस्बे सहित दक्षिणी राज्यो से बड़ी संख्या जैन प्रवासी बन्धु बढ़ चढ़कर भाग ले रहे हैं। श्री शंखेश्वर पार्श्वनाथ(पेढ़ीजी)मन्दिर ट्रस्ट के अध्यक्ष झनकार मल चोपड़ा ने बताया कि मंगलवार को परमात्मा का भव्य वरघोड़ा निकाला जाएगा। जिसमे विविध मंडलियों द्वारा विशेष झांकी प्रस्तुति दी जाएगी।

 

संपादक: भवानी सिंह राठौड़ (फूलन)

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!