पहली कक्षा में प्रवेश की आयु 6 वर्ष करने के विरोध में शिक्षामंत्री के नाम कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन

पहली कक्षा में प्रवेश की आयु 6 वर्ष करने के विरोध में शिक्षामंत्री के नाम कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन
Spread the love

 बाङमेर

राजस्थान शिक्षक संघ शेखावत के प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य नीलमसिंह के नेतृत्व में शिक्षामंत्री के नाम जिला कलेक्टर बाङमेर को ज्ञापन देकर राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 की अनुपालना में पहली कक्षा में प्रवेश की आयु पाँच वर्ष के स्थान पर 6 वर्ष की गई है। के कारण प्रदेश की सरकारी स्कूलों में पहली कक्षा संचालित ही नहीं होगी। पाँच साल के समस्त बच्चे प्राइवेट स्कूल में दाख़िलाएकदम लेगे। परिणाम स्वरूप प्रदेश में 8-10 लाख का नामांकन कम होगा। जिलाध्यक्ष भगवानाराम जाखड़ एवं जिला मंत्री विनोद पूनिया कशिश के नेतृत्व दिये ज्ञापन में बताया कि एक बार जिस बच्चे ने निजी स्कूल में प्रवेश ले लिया तो अगली साल वह सरकारी स्कूल में नहीं आएगा, इस प्रकार अगले सत्र में पहली और दूसरी कक्षाएँ सरकारी स्कूलों में नहीं चलेंगी। 

जिला प्रवक्ता मनोहर सिहाग व महिपाल ढाका ने बताया संगठन ने माँग कि अविलम्ब प्रवेश की आयु पाँच वर्ष की जावे। जिससे सार्वजनिक शिक्षा की हिफ़ाज़त हो सके जिससे नामांकन वृद्धि हो। ज्ञापन देने मालाराम बैरङ रामकेश मीणा कृष्णाकुमार मङेचा महिपाल ढाका मनोहर सिहाग भगवानाराम जाखङ विनोद पूनिया कशिश आदि भी साथ थे।

संपादक: भवानी सिंह राठौड़ (फूलन)

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!