विंड मिल से टकराकर प्रवासी गिद्ध की दर्दनाक मौत,

विंड मिल से टकराकर प्रवासी गिद्ध की दर्दनाक मौत,
Spread the love

दुर्लभ प्रजाति का था यूरेशियन ग्रिफॉन, टुकड़ों में बिखरा पक्षी

जैसलमेर

जैसलमेर जिले के देगराय ओरण के पास स्थित सांवता गांव में लगी विंड मिल से टकराकर एक प्रवासी यूरेशियन गिद्ध की मौत हो गई। गिद्ध के मरने की सूचना चरवाहों ने पर्यावरण प्रेमियों को दी। पर्यावरण प्रेमी सुमेर सिंह ने लगातार हो रही दुर्लभ पक्षियों की मौत पर दुख जताया है। पर्यावरण प्रेमी सुमेर सिंह भाटी ने बताया कि सांवता गांव की सरहद पर निजी कंपनियों द्वारा विंड मिल लगाई है। इस इलाके के पास हाइटेंशन बिजली की लाइनें भी चल रही है जबकि इस इलाके में गिद्धों समेत बड़े शिकारी चील, बाज और गोडावण का मुख्य विचरण क्षेत्र है। ओरण का बहुत बड़ा इलाका है जहां कई प्रवासी पक्षी हर साल आते हैं। फिर भी यहां बिजली के तार व विंड मिल लगे हुए हैं। सुमेर सिंह ने इस यहां से गुजर रही बिजली की तारों को भूमिगत कर ओरण को सुरक्षित करने की मांग की है। पर्यावरण प्रेमी सुमेर सिंह ने बताया की विंड मिल से टकराकर गिद्ध के टुकड़े टुकड़े हो गए। मौके पर गिद्ध का बिखरा शव देखकर पर्यावरण प्रेमियों में काफी गुस्सा है। उन्होंने बताया की पश्चिम व मध्य एशिया के साथ हिमालय से सर्दियों में आने वाले यह गिद्ध भारतीय वन्यजीवन कानून की प्रथम सूची में दर्ज संरक्षित पक्षी है और जैसलमेर के घास मैदान व ओरण इनके मुख्य विचरण व भोजन स्थल हैं अतः जैसलमेर में पशुधन बाहुल्य ओरणों को बिजली तारों से मुक्त रखा जाना महत्वपूर्ण है साथ ही इन प्रवासी पक्षियों की सुरक्षा का भी ध्यान इन क्षेत्रों में रखा जाना चाहिये।

 

सर्दियों में प्रवास करता है यूरेशियन ग्रिफॉन

पर्यावरण प्रेमी सुमेर सिंह ने बताया कि यूरेशियन ग्रिफॉन नामक दुर्लभ गिद्ध प्रवासी पक्षी है और सर्दियों में यहां प्रवास करता है। राजस्थान में यूरेशियन ग्रिफॉन कजाकिस्तान, अफगानिस्तान और बलूचिस्तान से आते है। इनका प्रवास का रास्ता मध्य-पूर्व से दक्षिणी एशिया की ओर है। इस मार्ग को यूरेशियन ग्रिफॉन के अलावा अन्य प्रजातियां भी इस्तेमाल करती हैं। वहां ज्यादा ठंड होने पर ये प्रवास करके हजारों किमी का सफर तय करके गरम जगहों पर आते हैं। जैसलमेर में ये फतेहगढ़, लाठी आदि इलाकों में जहां पशु विचरण का इलाका ज्यादा है वहां ये ज्यादा पाए जाते हैं।

संपादक: भवानी सिंह राठौड़ (फूलन)

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!