हादसों को न्यौता दे रहे सड़क के गड्ढे, जान सांसत में डालकर सफर कर रहे राहगीर

हादसों को न्यौता दे रहे सड़क के गड्ढे, जान सांसत में डालकर सफर कर रहे राहगीर
Spread the love

जिम्मेदार शर्मिंदा नही, शर्मिंदा हैं गड्ढों में तब्दील खुद सड़क

मोकलसर

उपखण्ड क्षेत्र से गुजरने वाले नेशनल हाइवे 325 का अधूरा पड़ा काम अब धीरे धीरे गति पकड़ रहा है। जिससे क्षेत्रवासियों को खुशी हो रही है। लेकिन जगह-जगह से टूटी यहां की सड़कें अब आमजन को दु:ख दे रही हैं। उपखण्ड क्षेत्र के बाड़मेर मोकलसर कस्बे की बात करें तो यहां सड़कों की हालत ऐसी है कि बड़े बड़े वाहन भी हांफ जाते हैं। दुपहिया वाहनों और राहगीरों के लिए तो सड़कों पर चलना दुभर हो गया है। ऐसा नही है कि जिम्मेदार विभाग, प्रशासन या जनप्रतिनिधियों को इसकी जानकारी नहीं है। कस्बे से गुजरने वाले नेशनल हाइवे 325 पर गौर का चौक सड़क पर पड़े बड़े बड़े गड्ढे से जिम्मेदारों को भले ही शर्म नही आती हो पर गड्ढों में तब्दील सड़क खुद अपने आप मे शर्मिंदा है। जिम्मेदारों की अनदेखी के कारण नेशनल हाइवे से गुजरने वाले वाहन चालक जान हथेली पर लेकर चल रहे हैं।

 

जिम्मेदारों का ध्यान नहीं

स्थानीय लोगों का कहना है कि नालियों के निकले वाले गन्दे पानी का सड़क पर फैलाव होने के कारण सड़कों का टूटना लाजमी है, लेकिन पिछले लंबे समय से आमजन व वाहन चालकों को इस समस्या का सामना करना पड़ रहा है। वाहन चालकों की मानें तो विभाग द्वारा गड्ढो की मरम्मत कर वाहन चालकों व आमजन को इस समस्या से राहत दी जा सकती है, लेकिन अभी तक इस और कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। यहां का विभाग न तो दर्द समझ रहा है और न ही जनप्रतिनिधि इस ओर ध्यान दे रहे है। ऐसे में कस्बेवासियों व वाहन चालकों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

 

विभाग को मरम्मत करवाकर आमजन को देनी चाहिए राहत

सार्वजनिक निर्माण विभाग के अधिकारी सड़क पर गड्ढों की ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं। वाहनों को भी भारी नुकसान हो रहा है। वाहन चालक के मुताबिक दिन के समय भी सड़क पर चलना मुश्किल हो गया है। बड़े बड़े गड्ढे कभी भी किसी की जान ले सकता है। विभाग को मरम्मत करवाकर आमजन को राहत देनी चाहिए।

संपादक: भवानी सिंह राठौड़ (फूलन)

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!