समस्या: प्रतीक्षालय के अभाव में हर मौसम की मार झेल रहे यात्री, नही हो रही सुनवाई

समस्या: प्रतीक्षालय के अभाव में हर मौसम की मार झेल रहे यात्री, नही हो रही सुनवाई
Spread the love

बस स्टॉप पर मूलभूत सुविधा के अभाव में कही बरगद तो कही विद्युत ट्रांसफार्मर के नीचे खड़े रहने को मजबूर यात्री

मोकलसर

आग उगलती गर्मी में हम जहां घरों के अंदर भी तपिश से बच नही पा रहे है, वही इस 46 डिग्री सेल्सियस तापमान में गांव में यात्रियों के लिए यात्री प्रतीक्षालय नही होने की वजह से लोगों को जहां चबूतरों या दुकानों पर बैठकर बसों का इंतजार करना पड़ता है। गांव में एसबीआई बैंक होने की वजह से आसपास के दर्जनों गांवों के लोग यहां आते हैं। ऐसे में यहां प्रतिक्षालय नहीं होने की वजह से लोगों को चिलचिलाती धूप कड़कड़ाती ठंड, एवं बारिश के मौसम भारी परेशानियों का सामना करना पड़ता हैं। वहीं सबसे ज्यादा परेशानी महिलाओं एवं बच्चों को होती है। ग्रामीण लंबे समय से मांग कर रहे हैं कि यहां प्रतिक्षालय बनें ताकि यात्रियों को कोई परेशानी न हो। यहां पर्याप्त मात्रा में जगह नहीं होने की वजह से महिलाओं के लिए लगाया गया प्रसाधन घर भी नहीं के बराबर साबित हो रहा हैं क्योंकि उसको भी साइड में रखा गया हैं जिस पर आसानी से नजर भी नही पहुंचती।

 

दो जगह बसों का स्टॉप पर प्रतीक्षालय नही 

कस्बे के मैन बस स्टैंड ओर सी रोड़ पर बसों का स्टॉप होता है। यात्रा करने वाले यात्री बसों के इंतजार में बस स्टॉप पर आकर खड़े हो जाते है पर वहाँ प्रतीक्षालय नहीं होने की वजह से परेशानी का सामना करना पड़ता है। वही धूप से बचने के लिए मजबूरी में यात्री मैन बस स्टैंड पर बरगद के पेड़ के नीचे तो सी रोड़ पर विधुत ट्रांसफार्मर के नीचे छाया में खड़ा रहना पड़ रहा है जिससे किसी भी वक्त अनहोनी होने का खतरा बना रहता है।

 

बनी रहती हैं जाम की स्थिति 

मोकलसर गांव से नेशनल हाइवे 325 गुजरता हैं इसलिए यहां दिनभर वाहनों की रेलमपेल लगी रहती हैं। यहां एकल मार्ग व विकट मोड़ होने की वजह से बड़े वाहनों के चलते लंबी कतार लग जाती हैं, इससे पीछे वाले वाहनों को भारी समस्या होती हैं। ऐसे में अगर यहां एक यातायात पुलिसकर्मी नियुक्त किया जाएं तो हर रोज होने वाली जाम की स्थिति से निजात मिल सकता हैं।

 

इनका कहना

गांव में मैन बाजार व सी रोड़ पर बसों का स्टॉप होता है पर दोनों जगहों पर मूलभूत सुविधाएं नहीं होने से यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है, यात्रियों को कड़कती धूप में बस का इंतजार करना पड़ रहा है छाया के लिए यात्रियों को मजबूरी में कही बरगद के पेड़ का तो कही विद्युत ट्रांसफार्मर का सहारा लेना पड़ रहा है।

 – मनोहर भाटी, ग्रामीण मोकलसर

संपादक: भवानी सिंह राठौड़ (फूलन)

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!