मायलावास चौराया पर सरकारी जमीन पर 5 लोगों के नाम की रजिस्ट्री, 3 साल बाद भी नही हुई कार्रवाई 

मायलावास चौराया पर सरकारी जमीन पर 5 लोगों के नाम की रजिस्ट्री, 3 साल बाद भी नही हुई कार्रवाई 
Spread the love

तत्कालीन सिवाना कार्यवाहक तहसीलदार बाबूसिंह राजपुरोहित ने भूफ़ियाओ से मिलीभगत कर मायलावास चोराहा पर सरकारी जमीन की कर दी 5 लोगो के नाम की रजिस्ट्री 

मायलावास

एक तरफ सरकार द्वारा ओरण, गोचर, नाडी, तालाब सहित विभिन्न जगहों से अतिक्रमण हटाने के लिये प्रतिदिन कार्य किये जा रहे है वही दूसरी तरफ सिवाना प्रशासन के राजस्व अधिकारियो द्वारा सरकारी जमीन की 5 लोगों के नाम रजिस्ट्री करने से ग्रामीणों मे भारी रोष है। उल्लेखनीय हैं कि सिवाना उपखंड क्षेत्र के मायलावास चौराहा पर ओरण भूमि की 30 लाख मे खरीद फरोख्त कर 5 लोगों के नाम रजिस्ट्री किये 3 साल बीत जाने के बावजूद भी सिवाना प्रशासन द्वारा दोषियों के विरुद्ध कोई कार्यवाही नहीं की जा रही है। सिवाना सणद धारा-91 की सरकारी भूमि पर अतिक्रमण हटाने और अतिक्रमियों के विरुद्ध कार्यवाही करने का पूरा अधिकार तहसीलदार को होता है। लेकिन सिवाना क्षेत्र के मायलावास चोराहा पर 91 की औरण भूमि पर नियम कायदो को ताक पर रखकर तत्कालीन सिवाना तहसीलदार बाबुसिंह राजपुरोहित और राजस्व विभाग के अधिकारियो की मिलीभगत से खसरा संख्या 1994/596 औरण भूमि की 5 लोगो के नाम से रजिस्ट्री की गई है।

 

3 साल बाद भी नही हुई कार्यवाही

उक्त जमीन के रजिस्ट्रेशन किए 3 साल बीत जाने के बाद भी सिवाना प्रशासन द्वारा सरकारी जमीन की रजिस्ट्री करने वाले जिम्मेदार अधिकारियो के विरुद्ध कोई कानूनी कार्यवाही नहीं की गई है। वही सरकारी जमीन की रजिस्ट्री को ख़ारिज भी नहीं किया गया है। जहां एक तरफ मायलावास में प्रशासन द्वारा सरकारी जमीन से अतिक्रमण हटाने की कार्यवाही की जा रही है वही दूसरी तरफ़ सरकारी जमीन की रजिस्ट्री के 3 साल से भी ज्यादा वक़्त बीत जाने के बाद दोषियों के विरुद्ध कार्यवाही नहीं होने से लोगों मे सिवाना प्रशासन के विरुद्ध रोष है।

 

आखिर कार्यवाही कब करेंगे जिम्मेदार?

जानकारी के मुताबिक 26 नवंबर 2020 को मायलावास चौराहा पर ओरण भूमि का सिवाना के तत्कालीन तहसीलदार नें अपने पद का दुरूपयोग करते हुए 5 लोगों के नाम रजिस्ट्री कर दी। रजिस्ट्री करने के 1 साल बाद 2021 मे राजस्व विभाग द्वारा रजिस्ट्री की गई जमीन को अतिक्रमण मान कर नोटिस भी जारी किया गया, नोटिस देने के 2 साल बाद भी न तो जमीन की रजिस्ट्री ख़ारिज करने की कार्रवाई की गई है और न ही दोषियों के विरुद्ध कानूनी कार्रवाई की गई है।

 

तो क्या नोटिस देना महज खानापूर्ति थी

सिवाना उपखंड क्षेत्र के मायलावास चोराहा में ओरण, गोचर की भूमि पर अतिक्रमणकारियों द्वारा दिनों दिन कब्जा कर आगे बेचान किया जा रहा है। वहीं प्रशासन द्वारा इसको लेकर कतई गंभीर नहीं दिख रहा है। प्रशासन इन भू-माफियाओं के खिलाफ कोई कार्रवाई करता नजर नहीं आ रहा है। बता दें कि 26 नवंबर 2020 को सिवाना तहसील कार्यालय में अर्जुनदान पुत्र कानदान राव निवासी सांकरणा, भरतसिंह पुत्र मादु दान राव निवासी सांकरणा ने खसरा संख्या 1994/596 का अम्बाराम पुत्र रामाराम मायलावास, मुल्तानमल पुत्र राणाराम, सुकीदेवी पत्नी सुरेश कुमार, सतीश कुमार पुत्र जवाहराराम, गौतम कुमार पुत्र हंजारीमल को 40*73= 2920 वर्गफीट भूमि को 30 लाख ग्यारह हजार रुपये में बेचान कर रजिस्ट्री इन सभी के नाम करवा दी। इसके बाद ग्रामीणों की शिकायत के बाद मामला सामने आने पर 22 जनवरी 2021 तहसीलदार ने उक्त भूमि को अतिक्रमण मान कर जमीन खाली करने का नोटिस भी जारी किया गया, लेकिन नोटिस देने के बाद उस सम्बद्ध में कोई कार्रवाई नही की गई। 3 साल से ज्यादा का समय गुजरने के बाद भी रजिस्ट्री करने वाले लोगों के विरुद्ध कोई कानूनी कार्रवाई नहीं की गई है, इससे ग्रामीणों मे राजस्व विभाग के प्रति रोष है। 

 

इनका कहना

पहले का प्रकरण है, मुझे जानकारी नहीं है, दस्तावेज देखकर ही आगे की कार्यवाही के बारे मे बता सकता हूं।-

रवि शेखर 

तहसीलदार सिवाना

संपादक: भवानी सिंह राठौड़ (फूलन)

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!