तेजाजी महाराज भागवत कथा व नानी बाई मायरे का दूसरा दिन

तेजाजी महाराज भागवत कथा व नानी बाई मायरे का दूसरा दिन
Spread the love

भागवत कथा सुनने से भवसागर पार हो सकता है: प्रेम बाईसा

कल्याणपुर

क्षेत्र चारलाई कल्ला ग्राम पंचायत के खेम्मा बाबा मन्दिर के पास चल रही 8 दिवसीय वीर तेजाजी महाराज भागवत कथा व नानी बाई मायरे के दुसरे दिन शनिवार को कथा वाचक साध्वी प्रेम बाईसा ने बताया कि जीवन मे इतनी ऊंचाइया रहनी चाहिए कि हर व्यक्ति के गुणो और धर्म का सम्मान कर सके। मनुष्य के जीवन मे उदारता ऐसी होनी चाहिए। वैसे ही जैसे दीपकों मे भेद होता, कोई दीपक महंगा होता है कोई सस्ता होता है लेकिन ज्योति मे कोई भेद नही होता वो एक सी होता है कथा वाचक बाल साध्वी प्रेम बाईसा ने भक्त और भगवान के बारे मे बताते हुए कहा कि मनुष्य जीवन मे अपने सद्कर्मा के साथ-साथ अपने मां-बाप और भगवान को स्मरण करते रहना चाहिए। जो भक्त सच्चे मन भगवान को याद करते हुए उनके पास भगवान दौङ कर चले आते है। इसके लिए हमारा मन साफ होना चाहिए। कथा के दौरान विभिन्न भगवानों की झांकिया जिसमे भगवान नारायण, शिव शंकर की झांकी आकर्षण का केन्द्र रही। कथा के दौरान साध्वी प्रेमबाईसा ने राम सुमिरन हरि ने समरले, ओढ चुनर गई रे संत्संग मे आदि भजनों की प्रस्तुतियां देकर सभी भक्तों को मंत्र मुग्ध दिया। इस दौरान कल्याणपुर, चारलाई खुर्द, सरवङी, चारलाई कल्ला सहित दूर-दराज के क्षेत्रों से हजारो भक्तगण मौजूद रहे।

संपादक: भवानी सिंह राठौड़ (फूलन)

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!