बहिन के दामाद ने बुजुर्ग ससुर को लालच देकर 17 बीघा ज़मीन करवा दी अपने नाम

बहिन के दामाद ने बुजुर्ग ससुर को लालच देकर 17 बीघा ज़मीन करवा दी अपने नाम
Spread the love

अब बुजुर्ग दंपति दो जून रोटी को मोहताज, भीख मांगने को मजबूर

 बाड़मेर

कहते है कि “लालच बुरी बात है’, ज्यादा लालच हमेशा धोखा देता है। ऐसा ही एक वाक्या ग्राम पंचायत रावतसर निवासी पीराराम पुत्र हेराजराम सियाग उम्र 80 साल के साथ हुआ है। दरअसल पीराराम के कोई संतान नहीं है। ऐसे में उसके बहिन के दामाद ने बीमा, आवास का कुछ लालच देकर पीराराम की सत्रह बीघा जमीन अपने नाम करवा ली। एक साल तक पीराराम व उनकी पत्नी को खाने पीने का ख़र्चा भी दामाद ने दिया। लेकिन अब दामाद ने किनारा कर लिया। जिससे अस्सी साल से ऊपर के बुजुर्ग दंपति की हालत खराब व दयनीय है। घर के कच्चे झोंपे बीखर चुके हैं। सुबह शाम का भोजन भी नसीब नहीं हो रहा है। अपना पेट भरने के लिए बुजुर्ग दंपति घर घर जाकर भीख मांगकर अपना गुजारा कर रहे हैं। पीराराम ने बताया कि दामाद ने लालच देकर ज़मीन अपने नाम करवा ली है। अब ज़मीन वापस पाने के लिए दावा व वकील करने के मेरे पास ख़र्चा नहीं है। सरकार मेरी जमीन मुझे वापस दिलाये। पीराराम के घर में कमाने वाला कोई नहीं है। इस भीषण गर्मी में भी अस्सी साल का बुजुर्ग दंपति पेट पालने के लिए घर घर जाकर मदद मांग रहे हैं। और लोग अपनी इच्छानुसार सौ दौ सौ रूपए या खाने का सामान देकर मदद कर रहे हैं। हालत इतनी खराब है कि अपन शब्दों में बयान नहीं कर सकते। यहां तक की भोजन सामग्री व चाय, शक्कर भी घरों से मांगकर ला रहे हैं अपना पेंट पाल रहे हैं।

मदद के लिए आए आगे।

बुजुर्ग दम्पति के अपनो के साथ साथ राम भी रूठ गया है। उम्र के अंतिम पड़ाव में भगवान भी ऐसी हालत किसी की नही करे। यदि आप भी मदद के लिए हाथ बढ़ाना चाहे तो मदद कर सकते है।

 पीराराम की आर्थिक मदद खाता संख्या–11312807985आईएफसी कोड-RMGBOOOO258 पर मदद कर सकते हैं। इसके अलावा राशन सामग्री देकर भी मदद की जा सकती है।पीराराम की स्थिति कमजोर है, बुजुर्ग दंपति दो जून रोजी रोटी के लिए भटक रहा है,मदद की सख्त जरूरत है। –डालू जाखड़, युवा नेता ,रावतसर।

संपादक: भवानी सिंह राठौड़ (फूलन)

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!