मेहनत व लगन से मिलती हैं सफलता: सोहनसिंह भायल

मेहनत व लगन से मिलती हैं सफलता: सोहनसिंह भायल
Spread the love

विदाई समारोह और भामाशाह सम्मान समारोह में सांस्कृतिक प्रस्तुतियां बनी आकर्षण का केंद्र

मायलावास।

सिवाना उपखंड क्षेत्र के मायलावास गांव स्थित राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में शनिवार को वार्षिकोत्सव कार्यक्रम और 12वीं कक्षा का विदाई समारोह व भामाशाह सम्मान समारोह आयोजित किया गया। इस अवसर पर विद्यालय के प्रतिभावान छात्र-छात्राओं को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया तथा विद्यार्थियों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुतियां दी गई। कार्यक्रम में भामाशाहों का विद्यालय स्टाफ द्वारा बहुमान कर प्रशस्ति पत्र व स्मृति चिन्ह देकर धन्यवाद ज्ञापित किया गया। कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए बालोतरा भाजपा जिला उपाध्यक्ष व पूर्व जिला परिषद सदस्य सोहनसिंह भायल ने कहा की छात्र-छात्राओ को भविष्य में निरंतर अध्ययन कर अपनी पढ़ाई पूरी करनी चाहिए। भायल ने कहा की वर्तमान समय प्रतिस्पर्धा का समय है और मेहनत के द्वारा ही हम अपने सपनो को साकार कर सकते है। साथ ही कहा कि मेहनत व लगन से कार्य करने पर ही मनचाही मंजिल मिलती हैं। पीईईओ हनवंत सिंह भायल ने विद्यार्थियों को उच्च शिक्षा प्राप्त करने का आशीर्वाद दिया। कार्यक्रम में भाजपा मंडल अध्यक्ष नगसिंह राजपुरोहित, सरपंच अशोकसिंह राजपुरोहित सहित विभिन्न अतिथियों ने सम्बोधित करते हुए 12वीं कक्षा के विद्यार्थियो को विदाई देकर उनके उज्ज्वल भविष्य की शुभकामनाए दी। मंच संचालन अध्यापक छगनसिंह राजपुरोहित ने किया। प्रधानाध्यापक हनवंत सिंह भायल ने वार्षिक प्रतिवेदन प्रस्तुत किया।

यह रहे मौजूद

इस दौरान भामाशाह तेजाराम माली, चेतन मेवाड़ा, क्षत्रभाण सिंह, जालमसिंह राजपुरोहित, पृथ्वीसिंह राजपुरोहित, हस्तीमल मेघवाल, नेनाराम प्रजापत, बाबूलाल माली साथ ही बिशनसिंह सोमड़ा, हिन्दुसिंह सिणेर, उपसरपंच गलाराम माली, भगवानाराम माली, भबूताराम देवासी, जोगभारती गोस्वामी, लालसिंह, छगनलाल, पारस सोलंकी, जबरसिंह, जोगाराम, पूरणप्रकाश शर्मा, ललित जिनगर, सुजाराम भाटी, मोहनसिंह, अनिल कुमार, जसवंतसिंह, सहित समस्त बालक बालिकाएं मौजूद रहे।

सांस्कृतिक प्रस्तुतियां रही आकर्षण का केंद्र

कार्यक्रम में छात्र-छात्राओं द्वारा विभिन्न कार्यक्रमों में बेहतरीन प्रस्तुतियां दी गई, जिसमें मस्त रहे मारवाड़ी… लगा दो हरिया बाग… के गीतों ने सभी को तालियां बजाने पर मजबूर कर दिया वहीं अनिता सुंदेशा के भाषण ने एक बार के लिए सभी को भावुक कर दिया, साथ ही नाटक के माध्यम शिक्षा के क्षेत्र में कैसे सफल हो की तर्ज पर दी गई प्रस्तुति पर सभी ने कलाकारों की खूब तारीफ की। वहीं कार्यक्रम में फाल्गुन के आने के संकेत पानी री पगडंडी की प्रस्तुति के साथ दिया गया। कार्यक्रम में राजस्थानी संस्कृति का बेजोड़ नमूना देखने को मिला।

संपादक: भवानी सिंह राठौड़ (फूलन)

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!