धरी रह गई दावों की मुहिम, नाक नीचे नीम हकीम

धरी रह गई दावों की मुहिम, नाक नीचे नीम हकीम
Spread the love

मेडिकल की आड़ में संचालित हो रहे अवैध क्लिनिक, विभाग कार्यवाही करने में नाकाम

सिवाना बीसीएमओ की रहमोकरम से फलफूल रहा कारोबार, कई बार अवगत करवाने के बावजूद आज दिन तक नही की कार्यवाही

मायलावास

कथित रूप से स्वास्थ्य विभाग के संरक्षण में झोलाछाप डॉक्टर बेखौफ होकर अवैध नर्सिंग होम का संचालन कर रहे है। इसके बावजूद स्वास्थ्य विभाग इन झोलाछाप डॉक्टरों के खिलाफ कोई ठोस कार्रवाई करने को तैयार नहीं है। क्षेत्र में प्रशासन की अनदेखी और भारी लापरवाही के चलते मायलावास सहित गांव के कोने कोने में कुकुरमुत्ते की तरह झोलाछाप डॉक्टरों ने अपना जाल बिछा रखा है और वे बिना किसी डर के बेखौफ होकर अपने अवैध दवाखाने का संचालन कर रहे है। इन झोलाछाप डॉक्टरों के हौसले इतने बुलंद हैं कि वह बिना किसी खौफ के किराए के मकान में क्लिनिक के नाम पर नर्सिंग होम संचालित कर रहे है। इन नर्सिंग होम में गरीब मरीजों को भर्ती कर उनका इलाज किया जा रहा है। इन गरीब लोगों से ग्लूकोज की बोतल व विटामिन की गोलियां और दर्द निवारक गोलियां देकर हजारों रूपए वसूले जा रहे हैं। इन कथित क्लिनिकों में बकायदा बेड सहित तमाम सुविधाएं होती हैं। गजब तो तब होता हैं जब इलाज करने का दावा कर कई दिनों तक मरीज का ईलाज के नाम पर चाँदी कूटते हैं फिर केस बिगड़ता देख हाथ ऊपर कर अन्य जगह पर रेफर कर देते हैं। ऐसे में बेचारी भोलीभाली जनता अपने आप को ठगा सा महसूस करती हैं। इतना सब कुछ होने के बावजूद विभाग आज दिन तक इन नीम हकीमों के खिलाफ कार्यवाही करने में नाकाम साबित हो रहा हैं।

 

क्लिनिक सहित घर-घर जाकर कूटते हैं चांदी

मेडिकल स्टोर की आड़ में अपने आप को डॉक्टर बताकर इन नीम हकीमों ने फर्जी क्लीनिक खोल रखे हैं, यहां पर मरीजों का इलाज किया जाता है। कई बार तो यह क्लिनिक संचालनकर्ता गांव-गांव व ढाणी-ढाणी जाकर मरीजों का उपचार करते है। इस दौरान मरीजों से मोटी फीस वसूली जाती है। यह लोग न तो कोई पर्ची पर दवाई लिखते है और न ही इलाज के लिए कोई प्रमाण छोड़ते है। ऐसे में अगर मरीज की सेहत पर कोई असर पड़ता है तो अपने हाथ खींच लेते है। बिना सबूत के इन पर कोई कार्रवाई भी नहीं होती है। और यह सब कार्यवाही के अभाव में हो रहा हैं।

 

 

बीसीएमओ की वजह से धरे के धरे रह गए आदेश व दावे

बता दें कि इन नीम हकीमों के खिलाफ कार्यवाही करने को लेकर कई सीएमएचओ ने आदेश जारी किए मगर उक्त आदेश की भी कठोरता से पालना नही की गई, वहीं सिवाना खंड चिकित्सा अधिकारी जगतनारायण स्वामी के द्वारा हमेशा यही जवाब मिलता रहा हैं कि प्लान बनाकर सभी के खिलाफ कार्यवाही करेंगे, लेकिन वो आदेश और दावे धरे के धरे रह गए। नतीजन आज झोलाछाप डॉक्टरों के हौंसले इतने बुलंद हैं की वो किसी भी कार्यवाही से नही डर रहे हैं। ऐसे में चिकित्सा विभाग की कार्यशैली पर प्रश्नचिन्ह खड़ा होना लाजमी हैं।

 

 

आखिर बीसीएमओ क्यों नही कर रहे कार्यवाही?

उल्लेखनीय हैं कि पिछले लंबे समय पालती जमाए बैठे स्थानीय बीसीएमओ जगतनारायण स्वामी की रहमोकरम से यह कारोबार फलफूल रहा हैं। इन साहब को कई बार अवगत करवाया मगर इनके द्वारा आज दिन तक मायलावास क्षेत्र में कोई कार्यवाही नही की गई। इनकी कार्यशैली से स्पष्ट हो गया हैं कि यह कारोबार इनकी रहमोकरम से ही फलफूल रहा हैं।

संपादक: भवानी सिंह राठौड़ (फूलन)

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!