अंग्रेजी माध्यम विद्यालय में पढ़ा रहे हिंदी माध्यम के शिक्षक, नौनिहालों का भविष्य दांव पर

अंग्रेजी माध्यम विद्यालय में पढ़ा रहे हिंदी माध्यम के शिक्षक, नौनिहालों का भविष्य दांव पर
Spread the love

ग्रामीणों ने जिला कलेक्टर को पत्र लिखकर अंग्रेजी माध्यम के शिक्षक लगाने की मांग की

मायलावास

राज्य सरकार ने भले ही मायलावास गांव में महात्मा गांधी अंग्रेजी माध्यम विद्यालय खोल दिया हो लेकिन शैक्षिक सत्र 2023-24 में अंग्रेजी माध्यम स्कूल मे सत्र पूरा होने के बावजूद अभी तक एक भी अंग्रेजी माध्यम का शिक्षक नहीं होने से विद्यार्थियों का भविष्य दाव पर है। अंग्रेजी माध्यम स्कूलों में दक्ष शिक्षकों की कमी से अब तक नौनिहालों को अंग्रेजी का ज्ञान नहीं मिल पा रहा है। ऐसे में अंग्रेजी माध्यम विद्यालय में पढऩे वाले विद्यार्थियों को फिलहाल पढ़ाई का कोई फायदा नहीं मिल पा रहा है। दरअसल सिवाना उपखंड क्षेत्र के मायलावास गांव स्थित राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय को महात्मा गाँधी अंग्रेजी माध्यम का विद्यालय बनाए एक साल का समय बीत जाने के बाद भी एक भी अंग्रेजी माध्यम का अध्यापक नहीं मिला है जिससे विद्यार्थियों का भविष्य मुश्किल डगर मे फंस गया है। उल्लेखनीय हैं कि मायलावास गांव मे पिछले एक साल से संचालित महात्मा गाँधी अंग्रेजी विद्यालय मे एक भी अंग्रेजी माध्यम का अध्यापक नहीं है, पूरा सत्र बीत जाने के बाद भी इस विद्यालय को अंग्रेजी मीडियम का अध्यापक नहीं मिला जिससे हिंदी मीडियम के अध्यापकों ने जैसे तैसे कर बच्चो को अंग्रेजी मीडियम का कोर्स करवाकर सत्र पूरा किया हैं, और अभी नया सत्र भी शुरू होने जा रहा हैं।

 

यह हैं विद्यालय की वर्तमान स्थिति

वर्तमान मे मायलावास गांव मे इस सरकारी अंग्रेजी मीडियम विद्यालय मे कुल 100 विद्यार्थी अध्ययनरत है जिसमे 58 विद्यार्थी अंग्रेजी माध्यम और 42 विद्यार्थी हिंदी मीडियम के अलग-अलग कक्षाओं मे अध्ययनरत है, हिंदी माध्यम के विद्यार्थियों के लिए हिंदी मीडियम के 7 अध्यापक लगे हुए है वही अंग्रेजी मीडियम के 58 विद्यार्थियों के लिए एक भी अंग्रेजी माध्यम का अध्यापक नहीं लगा हुआ है इससे विद्यार्थियों के अभिभावको ने शिक्षा विभाग के प्रति रोष जताया है।

 

ग्रामीणों ने जिला कलेक्टर को पत्र लिखकर अंग्रेजी माध्यम के शिक्षक लगाने की मांग की

रविवार को गाँव के ग्रामीणों ने बालोतरा जिला कलेक्टर को पत्र लिखकर मायलावास गांव मे एकमात्र संचालित महात्मा गांधी अंग्रेजी माध्यम विद्यालय मे अंग्रेजी माध्यम के अध्यापक लगाने की मांग की। पत्र मे बताया की अंग्रेजी माध्यम विद्यालय बनने की घोषणा के बाद गांव मे सरकारी विद्यालय के प्रति अभिभावको की रुचि अंग्रेजी माध्यम विद्यालय के प्रति बढ़ी थी लेकिन पूरा सत्र बीत जाने के बाद भी एक भी अंग्रेजी माध्यम का अध्यापक नहीं लगाया गया है। जबकि हिंदी माध्यम के 7 अध्यापक लगे हुए है, ग्रामीणों ने हिंदी माध्यम के अध्यापकों को अन्य विद्यालयों मे लगाने और महात्मा गांधी अंग्रेजी माध्यम विद्यालय मे अंग्रेजी माध्यम के अध्यापक लगाने की मांग की। ग्रामीणों ने समय पर अंग्रेजी माध्यम के अध्यापक नहीं लगाने पर विद्यालय के मुख्य गेट पर ताला लगाकर विरोध प्रदर्शन की चेतावनी दी। इस दौरान जोगभारती गोस्वामी, बिशनसिंह सोमड़ा, भेराराम मेघवाल, हड़मानराम, नारायण सिंह, अशोक कुमार, नवीन सोलंकी, दौलाराम सहित ग्रामीण मौजूद रहे।

 

इनका कहना

विद्यालय को अंग्रेजी माध्यम तो कर दिया लेकिन अंग्रेजी माध्यम के शिक्षक नही लगाने से नौनिहालों का भविष्य दांव पर लगा हुआ हैं, अभी दूसरा सत्र शुरू होने वाला हैं इसलिए सरकार इस विद्यालय में अंग्रेजी माध्यम के शिक्षकों की नियुक्ति करें।

सीता देवी, पंचायत समिति सदस्य

सरकार की मंशा पर निर्भर करता हैं क्योंकि अभी तक ऐसी कोई भर्ती तो अब तो खोली नही गई हैं। अब सरकार इन स्कूलों को बंद करेगी या शुरू रखेगी, यह नई सरकार पर निर्भर करता हैं। 

मुकनसिंह राजपुरोहित, प्रधान पंचायत समिति सिवाना

संपादक: भवानी सिंह राठौड़ (फूलन)

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!