दिव्यांग के घर पंहुची आईटी विभाग की टीम, छैलसिंह की आंखों से छलके खुशी के आंसू

दिव्यांग के घर पंहुची आईटी विभाग की टीम, छैलसिंह की आंखों से छलके खुशी के आंसू
Spread the love

मौके पर ही बनाया आधार कार्ड, अन्य औपचारिकताऐं पूरी की, ग्रामीणों ने की सराहना

मोकलसर

दिव्यांग का आधार कार्ड नही बनने से सरकारी पेंशन योजना का लाभ नही मिल रहा था। इस पर आईटी विभाग के अधिकारियों ने घर जाकर आधार कार्ड बनाया तो दिव्यांग छैलसिंह की आंखों से खुशी के आंसू छलक पड़े। मौके पर समस्या का निस्तारण करने पंहुची टीम को देखकर दिव्यांग की खुशी देखते ही बन रही थी। टीम ने घर पर ही आधार कार्ड बनाया। और पेंशन के लिए आवेदन संबंधी औपचारिकताएं भी पूरी की। ज्ञातव्य की पिछले 18 साल से चारपाई पर लेटे दिव्यांग छैलसिंह का आधार कार्ड नही होने से किसी भी प्रकार की सरकारी योजनाओं का लाभ नही मिल रहा था। बता दें कि छैलसिंह चलने फिरने में असमर्थ हैं, और उनकी खुशी का ठिकाना तब नही रहा जब आईटी विभाग की टीम समस्या का निस्तारण करने उनके घर पंहुची। जहां सूचना एवं प्रौद्योगिकी विभाग से नोडल अधिकारी खीमाराम सुथार, सूचना सहायक योगेश मीणा व आधार ऑपरेटर दयालदास ने दिव्यांग छैलसिंह के घर जाकर उनका आधार कार्ड बनाया। इस दौरान नोडल अधिकारी सुथार ने बताया कि सखी फाउंडेशन की टीम द्वारा जानकारी मिलने पर आधार ऑपरेटर के साथ दिव्यांग छैलसिंह के घर जाकर उनका आधार कार्ड बनाया गया हैं ताकि उनको सरकारी योजनाओं से जोड़ा जा सके।

 

सूचना विभाग पंहुचा दिव्यांग के दर, छलक पड़े खुशी के आंसू

सड़क हादसे में रीड की हड्डी टूटने के बाद 18 साल से चारपाई पर सोए अपने पुत्र की लाचार हालत देखकर छैलसिंह की मां की आंखों में आंसू आ गए। उन्होंने अधिकारियों का धन्यवाद ज्ञापित करते हुए बताया की परिवार में कमाने वाले सदस्य की ऐसी हालत पर रोना आता है। आर्थिक तंगी से गुजर रहे परिवार की भाईयो के सहयोग से परिवार का गुजारा हो रहा है। लेकिन आधार कार्ड नहीं होने से सरकारी योजनाओं का लाभ नही मिल रहा हैं। जिससे न पेंशन मिल रही थी और न ही ईलाज में कोई राहत।

 

मीडिया ने प्रमुखता से उठाया मुद्दा

दिव्यांग का आधार कार्ड नही बन रहा था इस पर मीडिया ने प्रमुखता से इस मामले को संबधित विभाग को अवगत करवाया। मामले को संज्ञान में लेते हुए सखी फाउंडेशन के अधिकारियों ने स्थानीय ग्रामीणों की मदद से सूचना केंद्र सिवाना को अवगत करवाया। इस पर सूचना सहायक योगेश मीणा ने आधार ऑपरेटर के साथ दिव्यांग छैलसिंह के घर जाकर आधार कार्ड बनाया। मीणा ने बताया कि दो सप्ताह के भीतर छैलसिंह को आधार कार्ड मिल जाएगा। इस दौरान दिव्यांग छैलसिंह के परिजनों में खुशी देखते ही बन रही थी। उन्होंने टीम का आभार जताया। आधार कार्ड मिलने के बाद शीघ्र ही दिव्यांग पेंशन भी मिलनी शुरू हो जाएगी।

संपादक: भवानी सिंह राठौड़ (फूलन)

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!