बिना सेफ्टी बेल्ट बांधे हो रहा भारी भरकम ग्रेनाइट पत्थरों का परिवहन, हरदम हादसे की आशंका

बिना सेफ्टी बेल्ट बांधे हो रहा भारी भरकम ग्रेनाइट पत्थरों का परिवहन, हरदम हादसे की आशंका
Spread the love

परिवहन के समय ट्रासपोर्ट मालिको द्वारा ब्लॉक की सुरक्षा को लेकर ट्रकों पर नही रहता कोई इंतजाम

मोकलसर

सिवाना उपखंड क्षेत्र से गुजरने वाले नेशनल हाईवे 325 पर ओवरलोड भारी वाहन सड़क पर मौत बनकर सरपट दौड़ रहे हैं। बावजूद इसके परिवहन महकमा मूकदर्शक बन बैठा हैं, वैसे तो भारी ओवरलोड व अवैध वाहनों पर अंकुश लगाने के लिए भले ही सरकार की ओर से आदेश जारी कर दिए गए हो लेकिन धरातल पर यह आदेश कागजी साबित हो रहे हैं। क्योंकि कई बार उच्च स्तर पर आयोजित होने वाली बैठकों में भी कई बार ओवरलोड वाहनों व ओवरलोड वाहनों से होने वाले हादसों की रोकथाम के लिए प्रभावी कदम उठाए जाने की बात कही जाती है। लेकिन यह बातें केवल बैठकों तक ही सीमित रह जाती है। क्योंकि आए दिन ओवरलोड वाहनों से होने वाले हादसों के बावजूद परिवहन विभाग कोई सबक नहीं लेता और न ही कोई ठोस कार्रवाई वाहन चालकों के खिलाफ की जाती हैं। जिसके चलते सुरक्षा प्रबंधों की अनदेखी के साथ परिवहन हो रहे भारी-भरकम पत्थर कब नीचे गिर जाते हैं पता ही नहीं रहता। दरअसल मायलावास चौराहा, लूदराडा, फूलन, वालू, मोकलसर, रमणिया सहित नेशनल हाइवे 325 पर प्रतिदिन दर्जनों ट्रक पर खुले ग्रेनाइट के पत्थर रखे देखने को मिल रहे हैं। लेकिन जिम्मेदार अधिकारियों द्वारा लापरवाही करने वाले ट्रक संचालको के विरुद्ध कोई कार्यवाही नही की जा रही हैं।

 

जिम्मेदार नहीं दे रहे ध्यान

दरअसल मायलावास चौराये से गुजरने वाले नेशनल हाइवे 325 पर ओवरलोड वाहनों का आवागमन जोरों पर हैं। ट्रक संचालक अधिक कमाई के चक्कर मे वाहन की क्षमता से अधिक पत्थरों को वाहनों पर बिना बांधे ढो रहे हैं। वाहन चालक अधिक कमाई करने के चक्कर में यातायात नियमों का मखौल उड़ाते हुए लोगों की जान को खतरे में डाल रहे हैं। ओवरलोड वाहनों की वजह से सड़कों पर आए दिन हादसे घटित होते रहते हैं इसके बावजूद भी जिम्मेदार विभाग इसे गंभीरता से नहीं ले रहे हैं।

 

इसलिए ट्रोलर से लुढ़कते हैं ब्लॉक

ट्रको के ऊपर रखे पत्थरों से हादसे होने का एक अहम कारण यह है कि ट्रोलर में रखे पत्थरों के ब्लॉक को किसी तरह से बांधकर नहीं रखा जाता है। बंधन नहीं होने से मोड में असंतुलित होकर ब्लॉक लुढ़क जाते हैं। इस तरह से ब्लॉक का परिवहन करना भी गलत हैं, लेकिन परिवहन विभाग इस ओर ध्यान नहीं दे रहा हैं।

 

जिम्मेदारों को नजर नहीं आते बिना किसी बेल्ट से ब्लॉक रखे वाहन

मायलावास चौराये से आये दिन बिना किसी बेल्ट बांधे ब्लॉक गुजर रहे हैं। जो कि जालोर व आहोर की तरफ निकलते हैं। लेकिन जिम्मेदारों को नजर नहीं आ रहे हैं। ब्लॉक लुढ़कर पास से गुजर रहे किसी अन्य वाहन पर गिरने का हर समय अंदेशा बना रहता हैं। कोई बाइक या अन्य हल्का वाहन इसकी चपेट में आ जाए तो कचूमर बनते देर नहीं लगती है। इन सब के बावजूद इन ओवरलोड ट्रको के विरुद्ध किसी भी प्रकार की कोई कार्यवाही नही किये जाने से ग्रामीणों में रोष है।

 

पूर्व में भी हो चुके हैं हादसे

उल्लेखनीय हैं कि 8 वर्ष पूर्व रमणिया गांव में हनुमान मंदिर के पास एक ब्लॉक गिरने से सड़क किनारे चल रही एक महिला की तुरंत मौत हो गयी थी, जो कि अपने बेटे को बस में बिठाने आयी थी लेकिन ट्रक पर रखे पत्थरों पर पट्टा नही होने से महिला की जान चली गई। इसको लेकर ग्रामीणों में काफी रोष व्याप्त हैं। इस तरह की घटना घटित होने के बावजूद भी परिवहन विभाग द्वारा इन भारी भरकम वाहनों को अनदेखा किया जा रहा हैं।

संपादक: भवानी सिंह राठौड़ (फूलन)

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!