गर्भवती महिलाओं के टीके उपलब्ध नही, अस्पताल के चक्कर काट रही प्रसूति महिलाएं

गर्भवती महिलाओं के टीके उपलब्ध नही, अस्पताल के चक्कर काट रही प्रसूति महिलाएं
Spread the love

विभाग की अनदेखी के चलते परेशानी में हो रहा इजाफा, पहले से स्टाफ की कमी, अब टिके का अभाव

मोकलसर।

सिवाना उपखंड क्षेत्र के मोकलसर कस्बे में स्थित पीएससी केंद्र से जुड़ी हुई आबादी की परेशानियां थमने का नाम नही ले रही हैं। क्योंकि पिछले 8 माह से यहाँ चिकित्सक नही होने की वजह से मरीजों को इलाज के लिए इधर उधर भटकना पड़ रहा हैं। और अब गर्भवती महिलाओं को लगने वाले नियमित टिके उपलब्ध नही होने के कारण गर्भवती महिलाओं को परेशानी उठाते हुए अस्पताल के चक्कर लगाने पड़ रहे हैं। स्थानीय चिकित्सा प्रशासन उक्त समस्या को लेकर उदासीन रवैया बरतने व आमजन को संतोषप्रद जवाब नही देने के कारण समस्या और ज्यादा बढ़ती जा रही है। वहीं अस्पताल में पंहुचने वाली नियमित गर्भवती महिलाओं को समय पर टीकाकरण नही हो पाने से उन्हें बीमारियों का भय सता रहा है। इधर चिकित्सा विभाग उक्त समस्या को लेकर गम्भीर नजर नहीं आ रहा है। प्राप्त जानकारी के अनुसार गर्भवती महिलाओं के टिके की समस्या सभी जगह पर बनी हुई है। वहीं महिलाओं ने बताया कि टिके लगाने यहां पंहुचती हैं मगर टिके उपलब्ध नही होने की वजह से वापस घर लौटना पड़ रहा हैं।

आगे से नही हो रही सप्लाई

प्राप्त जानकारी के अनुसार गर्भवती महिलाओं के लगने वाले टिके चिकित्सा विभाग के आगे जयपुर स्तर से सप्लाई पिछले दो महीने से आंशिक चल रही हैं। जिसके कारण जिला स्तर से लेकर ब्लॉक स्तर तक टीको की कमी लम्बे समय से गर्भवती महिलाओं के लिए भयंकर समस्या बनी हुई है। जहाँ सरकार व चिकित्सा विभाग व महिला व बाल विकास परियोजना विभाग गर्भवती महिलाओं के नियमित टीकाकरण पर जोर दे रही है। वही दूसरी ओर पिछले दो महीने से गर्भवती महिलाओं का नियमित टीकाकरण अनियमित चल रहा है। जिससे गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ रहा है।

दस आंगनबाड़ी केंद्र हैं इस पीएचसी केन्द्र के अंतर्गत

इस पीएचसी के दायरे में कुल दस आंगनवाडी केन्द्र है प्रत्येक केंद्र से गुरुवार को गर्भवती महिलाओं को टीकाकरण के लिए पीएचसी केन्द्र भेजा जाता है। लेकिन एएनएम नही होने से बिना टीकाकरण के लौटना पड़ रहा है।

सुविधा बेहतरीन मगर स्टाफ की कमी

पीएचसी केन्द्र मोकलसर पर बेहतरीन सुविधा होने के बावजूद चिकित्सा कार्मिकों की कमी का खामियाजा ग्रामीणों को भुगतना पड़ रहा है। वही चिकित्सा विभाग की अनदेखी के चलते गर्भवती महिलाओं को टीकाकरण करवाने के लिए अस्पताल के चक्कर काटने पड़ रहे हैं। वही हर गुरूवार को टीकाकरण के लिया आने वाली गर्भवती महिलाओं को कल आना परसू आना के बहाने के साथ घर भेज दिया जाता है, लेकिन चिकित्सा विभाग की ओर से भी कोई वैकल्पिक बंदोबस्त नही किये गए हैं।

इनका कहना

अस्पताल में पिछले कई माह से चिकित्सक नही हैं जिससे मरीजो को परेशानी का सामना करना पड़ रहा हैं, वहीं अब गर्भवती महिलाओं के लिए टिके की व्यवस्था नही होना चिंताजनक हैं, सरकार जल्द ही अस्पताल में चिकित्सक व गर्भवती महिलाओं के लिए टीके की व्यवस्था करवाएं।

बाबूलाल माली, सामाजिक कार्यकर्ता

इसके लिए हम व्यवस्था में लगे हुए हैं, जल्द ही टीके की व्यवस्था की जाएगी।

वांकाराम, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी बालोतरा

संपादक: भवानी सिंह राठौड़ (फूलन)

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!