पानी की बर्बादी रोकने में जलदाय विभाग नाकाम

पानी की बर्बादी रोकने में जलदाय विभाग नाकाम
Spread the love

जल संरक्षण अभियान की निकल रही हवा, विभाग के पास नही पुख्ता इंतजाम

मायलावास

उपखंड क्षेत्र में कई गांव पानी के लिए तरस रहे हैं, कई गांवो में सप्ताह बाद पेयजल की आपूर्ति होती है तो कई गांवों में महीनों बीतने पर भी पेयजल नसीब नहीं हो रहा है। आलम यह है कि लोगों को मोल पानी खरीदकर पीना पड़ रहा हैं। क्योंकि आए दिन पाइपलाइन क्षतिग्रस्त हो जाने से हजारों लीटर पानी व्यर्थ बह जाता हैं। बावजूद इसके जलदाय विभाग व्यर्थ बहते पानी पर अंकुश लगाने में नाकाम साबित हो रहे हैं। जिसका खामियाजा लोगों को भुगतना पड़ रहा है। दरअसल सिवाना से गुजरने वाले एनएच 325 पर स्थित मायलावास चौराया पर पिछले 10-15 दिनों से पाइपलाइन क्षतिग्रस्त होने से प्रतिदिन हजारों लीटर पानी व्यर्थ बह रहा हैं। ग्रामीणों ने बताया कि पिछले कई दिनों से घरों में पानी नही पंहुच रहा हैं, इसलिए मजबूरन मोल पानी खरीदना पड़ रहा हैं। विभाग की लापरवाही के चलते आए दिन पाइपलाइन क्षतिग्रस्त होने से हजारों लीटर व्यर्थ पानी बह रहा हैं।

 

विभागीय अधिकारी बेखबर

यहां पर पाइप लाइन लीकेज होने से रोज हजारों लीटर पानी व्यर्थ फैल रहा हैं। इस राष्ट्रीय राजमार्ग 325 से गुजरने वाले लोग भी कभी-कभी आश्चर्य करते हैं कि विभाग के लोग अभी भी सोए हुए हैं क्या? करीब 10-15 दिनों से लगातर इस पाइपलाइन में लीकेज के कारण हजारों लीटर पानी व्यर्थ फैल रहा हैं। वहीं घरों में पानी नही पंहुचने की वजह से पानी को लेकर सर्दियों में भी त्राहि त्राहि मची हुई हैं, इसके बाद भी विभाग द्वारा कोई ध्यान नही दिया जा रहा हैं।

संपादक: भवानी सिंह राठौड़ (फूलन)

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!